ताज़ा खबर :
prev next

सड़कों पर घूम रहे हैं बिना नंबर प्लेट के डंपर, यातायात पुलिसकर्मी खड़े हैं जेब में हाथ डाले

गाज़ियाबाद | फ़ैन्सी नंबर प्लेट, काले शीशे, अवैध लाल नीली बत्तियाँ और हूटर, बिना सीट बेल्ट या हेलमेट के चलते वाहन चालक, विपरीत दिशा में चलते वाहन, सड़कों पर जहां-तहां रुक कर सवारी उतारते चढ़ाते जर्जर हो चुके ऑटो या डग्गामार बसें। यातायात पुलिस और आरटीओ की मेहरबानी से यह सब तो गाज़ियाबाद की जनता के लिए आम बात हो चुकी है। मगर आज गाज़ियाबाद के सबसे व्यस्त रहने वाले चौराहों में से एक हापुड़ चुंगी चौराहे पर कुछ ऐसा घटित हुआ जिसे देख कर लगता है कि गाज़ियाबाद यातायात पुलिस और आरटीओ दोनों ही विभागों में एक से बढ़कर एक सिफारिशी या पैसे के बल पर ट्रान्सफर होकर आए अधिकारी और कर्मचारी भरे पड़े हैं। इन्हें न तो जनता की जान से कोई सरोकार है न ही शहर की कानून व्यवस्था से।

आज सुबह लगभग 11 बजे “हमारा गाज़ियाबाद” के नियमित पाठक “वासुदेव गुप्ता” हापुड़ चुंगी चौराहे से गुजर रहे थे। उन्होंने चौराहे पर एक ऐसे डंपर को गुजरते देखा जिस पर से पीछे वाली नंबर प्लेट गायब थी। यातायात के नियमों के अनुसार सभी कमर्शियल वाहनों के दोनों साइडों में भी रजिस्ट्रेशन नंबर और मालिक का नाम व नंबर लिखा होना आवश्यक है, जो इस ट्रक पर नहीं था। यही नहीं इस डंपर में रेत को बिना कपड़े से ढके हुए ले जाया जा रहा था जो कि एनजीटी के नियमों का उल्लंघन तो है ही, डंपर से उड़ती हुई रेत हवा से गिरकर आस-पास चल रहे दुपहिया वाहन चालकों की आँखों में जा रही थी।

एक जागरूक नागरिक होने के नाते भैरव झा ने इस ट्रक के बारे में चौराहे पर खड़े यातायात पुलिस के सिपाही को सूचित किया। सिपाही ने बिना दोनों नंबर प्लेट के चल रहे डंपर चालक को रोका और ट्रक का नंबर और मालिक का नाम पूछा। उसके बाद यातायात पुलिस के सिपाही ने अपनी जेब से एक डायरी निकली और उसमें लिखे कुछ नंबरों से ट्रक के नंबर का मिलान किया और ट्रक को बिना किसी कार्यवाही के जाने दिया। भैरव ने इस बाबत जब सिपाही से पूछा तो सिपाही का जवाब था “अपने काम से काम रखो, साहब चाहेंगे तभी कार्यवाही होगी।”

सवाल यह उठता है कि आखिर पुलिसकर्मी की डायरी में ऐसे कौन से नंबर लिखे थे जिनका नियमों का उल्लंघन करने पर भी चालान नहीं होता है? क्या ये वे नंबर थे हो नियमित रूप से यातायात पुलिस को हफ्ता पहुंचाते हैं? दुर्भाग्य से यदि बिना नंबर के चल रहा यह डंपर किसी को कुचल कर भाग जाता है तो उसकी ज़िम्मेदारी किसकी होगी? यातायात पुलिस, आरटीओ या गाज़ियाबाद की सोई हुई जनता की जो सड़कों पर अराजकता देखकर भी शांत रहती है।

हमारा न्यूज़ चैनल सबस्क्राइब करने के लिए यहाँ क्लिक करें।
Follow us on Facebook http://facebook.com/HamaraGhaziabad
Follow us on Twitter http://twitter.com/HamaraGhaziabad
Subscribe to our News Channel