ताज़ा खबर :
prev next

अब संक्रामक बीमारियों की जांच रिपोर्ट मिलेगी ऑनलाइन

गाज़ियाबाद। अब संक्रामक बीमारियों की जांच रिपोर्ट लेने के लिए जिला संक्रामक रोग नियंत्रण विभाग के चक्कर नहीं काटने पड़ेंगे, बल्कि जल जनित बीमारियों की जांच कराने के दौरान दी गई ई मेल आइडी पर जांच रिपोर्ट आ जाएगी। इसके लिए विभाग को अपग्रेड करने के साथ ही पूरा डाटा ऑनलाइन किया जा रहा है। बरसात शुरू होने के बाद जिले में संक्रामक रोग के चपेट में आने वाले मरीजों की संख्या बढ़ जाती है। जिला संक्रामक रोग नियंत्रण विभाग में जांच कराने के बाद रिपोर्ट लेने के लिए भी चक्कर काटना पड़ता है। हर साल हजारों लोग डेंगू, मलेरिया की चपेट में आ जाते हैं।

जिला संक्रामक रोग विभाग में अब मलेरिया की जांच रैपिड किट से नहीं की जाएगी। केंद्र सरकार ने इस पर रोक लगा दी है। रैपिड किट की जगह यह जांच अब माइक्रोस्कोपिक विधि से की जाएगी। इस रिपोर्ट को ही अंतिम रिपोर्ट माना जाएगा। रैपिड किट की रिपोर्ट पर सवाल उठने के बाद यह निर्णय लिया गया है।

वरिष्ठ मलेरिया निरीक्षक नरेंद्र कुमार ने बताया कि जिला एमएमजी अस्पताल में बनीं जिला संक्रामक रोग नियंत्रण प्रयोगशाला में अभी तक माइक्रोस्कोप और रैपिड किट दोनों से ही जांच की जाती थी, लेकिन माइक्रोस्कोपिक जांच जटिल होने के कारण ज्यादातर मलेरिया के मामलों की जांच रैपिड किट से ही की जाती थी।

रैपिड किट से की जाने वाली जांच में अक्सर गड़बड़ी होती थी, जिसके कारण मरीज को दोबारा से माइक्रोस्कोप से जांच करवानी पड़ती थी। इसके कारण मरीज का उपचार शुरू होने में देर होती थी। इस तरह के ज्यादा मामले आने पर केंद्र सरकार ने मलेरिया की जांच के लिए नई गाईडलाइन जारी की है। गाइड लाइंस के मुताबिक मरीज को मलेरिया है या नहीं अब माइक्रोस्कोपी जांच ही तय करेगी।

 

आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो भी कर सकते हैं।