ताज़ा खबर :
prev next

कैसे रहे शहर साफ ! गंदगी के बीच दौड़ लगाकर सीखा और सिखाया गाज़ियाबाद प्रशासन ने

गाज़ियाबाद | रविवार का दिन गाज़ियाबाद के लिए ऐतिहासिक था क्योंकि शहर के इतिहास में पहली बार कचरा (समाधान) महोत्सव का आयोजन किया जा रहा है। क्योंकि यह आयोजन सरकारी है, इसलिए हमेशा की तरह इस बार भी डीआईओएस की ड्यूटी स्कूल से बच्चे इकट्ठा करने की थी तो जीएम इंडस्ट्री की ज़िम्मेदारी शहर के विभिन्न उद्यमियों और उद्यमियों को कवि नगर के रामलीला मैदान में इकट्ठा करने की। इन दिनों केंद्र सरकार स्वच्छ भारत मिशन में बहुत पैसा दे रही है, इसलिए बजट की भी कोई समस्या नहीं है। तीन दिन तक चलने वाले इस आयोजन में उन गैर सरकारी संगठनों का होना भी जरूरी है जो सरकारी मदद पर पल रहे हैं। अधिकारियों और नेताओं के साथ अखबार में फोटो छपवाने के शौकीन लोगों को किसी निमंत्रण की जरूरत नहीं, उन्हें तो बस पता चलना चाहिए कि भीड़ कब और कहाँ एकत्र हो रही है।

महोत्सव की शुरुआत 5 किलोमीटर लंबी मैराथन दौड़ से हुई। इसके लिए नवनिर्मित एलिवेटेड रोड पर एक बार फिर से साफ-सफाई कर उसे चमकाया गया। इस बात का खास ख्याल रखा गया कि एलिवेटेड रोड के नीचे की गंदगी पर न तो दौड़ में शामिल लोगों का ध्यान जाए और न ही दौड़ में शामिल न होने वाले गणमान्य अतिथियों का। कार्यक्रम में ऐसे बहुत से लोग भी शामिल थे जो सरकारी भूमि पर कब्जा कर प्लॉट काटने, रंगदारी और झुग्गी-झोपड़ियों में रहने वाले लोगों के राशन कार्ड बनवाकर राशन हड़पने, एनजीओ बनाकर सरकारी पैसा खाने आदि में माहिर हैं। इनमें से अधिकतर अब सत्ताधारी भाजपा का दामन थाम चुके हैं, इसलिए वे सरकार और जिला प्रशासन की नज़र में माननीय हो गए हैं। कल तक उनकी गिरफ्तारी के वारंट हाथ में लिए घूमने वाली पुलिस भी अब उन्हें देखकर कड़क सलाम ठोकती है।

बहरहाल सरकारी प्रैस विज्ञप्ति के अनुसार तीन दिवसीय कचरा समाधान महोत्सव के शुभारंभ कार्यक्रम में हजारों शहरवासियों ने पांच किलोमीटर की दौड़ में भाग लिया। इसके साथ ही शहर को स्वच्छ बनाने की शपथ ली। वहीं, कविनगर रामलीला मैदान में दोपहर में केंद्रीय विदेश राज्यमंत्री वीके सिंह ने कचरा समाधान महोत्सव का उद्घाटन किया। यहां विभिन्न तरह की प्रदर्शनियां भी लगाई गईं। तय कार्यक्रम के अनुसार रन ऑफ क्लीन और ग्रीन गाजियाबाद के लिए सुबह छह बजे से राजनगर एक्सटेंशन की तरफ एलिवेटेड रोड पर 30 से ज्यादा स्कूलों के बच्चे, खिलाड़ी, एनजीओ, व्यापारी आदि एकत्रित होना शुरू हो गए। करीब सवा सात बजे राज्यसभा सांसद अनिल अग्रावाल ने लोगों को हरी झंडी दिखाई। इसके साथ ही एलिवेटेड रोड पर लोगों ने दौड़ लगानी शुरू कर दी। करीब पौन घंटे में लोगों ने दौड़ पूरी की। लोगों के पीछे साइकिल ग्रुप चल रहा था। इस दौरान मौजूद शहरवासियों ने जिले को स्वच्छ बनाने की शपथ ली।

ऐसे आयोजनों के बात नेताओं, सरकार, सरकारी अधिकारियों और तथाकथित जनसेवकों के गुणगान से भरी खबरों को पढ़ने के शौकीन पाठकों को हमारी यह रिपोर्ट अजीब लग रही होगी, मगर क्या करें सत्य तो यही है। हम स्पष्ट करना चाहते हैं कि हमारा उद्देश्य सरकार या सरकारी आयोजनों का मज़ाक उड़ाना नहीं है। हम केवल ऐसे आयोजनों की सार्थकता पर प्रश्न कर रहे हैं। आयोजन को सफल बनाने के लिए हम उन स्कूली बच्चों का धन्यवाद देते हैं जिन्हें सुबह सवेरे पहले एलिवेटेड रोड पर और फिर उसके बाद कड़ी दोपहर में कविनगर रामलीला मैदान में इकट्ठा किया गया था। लेकिन क्या यह बेहतर नहीं होता कि जिलाधिकारी महोदया अपने ऑफिस से कई किलोमीटर दूर जाकर मैराथन करने से अपने ऑफिस यानि विकास-भवन के आस पास की गंदगी साफ करवाती। यदि ऐसा होता तो शायद कचरा (समाधान) महोत्सव ज्यादा सार्थक होता और वहाँ आने वाले परेशान लोगों को अपना घर और क्षेत्र साफ रखने की प्रेरणा मिलती।

हमारा न्यूज़ चैनल सबस्क्राइब करने के लिए यहाँ क्लिक करें।
Follow us on Facebook http://facebook.com/HamaraGhaziabad
Follow us on Twitter http://twitter.com/HamaraGhaziabad
Subscribe to our News Channel