ताज़ा खबर :
prev next

लाइटें बन्द मार्ग दुर्गम, चैन की नींद में नगर निगम

गाज़ियाबाद | बुलन्दशहर रोड औद्योगिक क्षेत्र में कई महीने से दर्जनों एलएईडी लाइटें खराब होकर बन्द पड़ी हैं। इस मामले में क्षेत्र के ओ.पी अरोड़ा व सौरभ मित्तल सहित कुछ अन्य जागरूक उद्यमियों से “हमारा गाज़ियाबाद” टीम ने विस्तार से चर्चा की। बातचीत के दौरान उद्यमियों ने जानकारी दी कि निगम अधिकारी कभी स्टॉक में एलईडी न होने का बहाना करते हैं, तो कभी एलईडी न बदलने के लिए ठेकेदार को जिम्मेदार ठहराते हैं। कभी कहते हैं कि मामला उच्च अधिकारियों की जानकारी में है, जल्द ही लाईटें ठीक हो जाएँगी, तो कभी कहते हैं एलईडी लाईट स्टॉक में आने के बाद ठेकेदार से मिल लेना।
मामले की तह तक जाने के लिए हमारी टीम ने गाजियाबाद नगर निगम के प्रकाश निरीक्षक बी डी शर्मा से संपर्क किया। क्षेत्र में बन्द बड़ी अधिकांश एलईडी लाईटों की सच्चाई को दरकिनार कर उन्होंने कहा कि स्टॉक में एलईडी लाईटें उपलब्ध हैं। लाईटों से संबंधित सभी शिकायतें निस्तारित की जा चुकी हैं।
झूठ और बहानेबाजी के साए में नगर निगम की निष्क्रियता के चलते आलम यह है कि क्षेत्र की अधिकांश एलईडी लाइटें खराब हो चुकी हैं। शाम होते ही क्षेत्र में अँधेरा पसर जाता है। इस अँधेरे का लाभ उठाकर असामाजिक तत्त्वों द्वारा जहाँ महिला कर्मचारियों से छेड़छाड़ वहीं पुरुष कर्मचारियों से लूटपाट जैसी अप्रिय घटनाओं को अंजाम दिया जा रहा है।
गौरतलब है कि हाल ही में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के आगमन पर जिलाधिकारी ऋतु माहेश्वरी ने गाजियाबाद को सौ प्रतिशत घरों में बिजली वाला राज्य का पहला ऐसा जिला घोषित करते हुए कहा कि एकीकृत ऊर्जा विकास योजना के तहत जल्द ही जिले में 24 घंटे बिजली की आपूर्ति सुनिश्चित की जाएगी। ऐसे में बड़ा प्रश्न यह है कि जिले में बिजली व्यवस्था के प्रति बड़ी जिम्मेदारी जिस नगर निगम के ऐसे झूठे, बहानेबाज व सुस्त अधिकारियों के कंधों पर है, उनसे पूरे जिले को रोशन करने की अपेक्षा करना कहाँ तक उचित है?

हमारा न्यूज़ चैनल सबस्क्राइब करने के लिए यहाँ क्लिक करें।
Follow us on Facebook http://facebook.com/HamaraGhaziabad
Follow us on Twitter http://twitter.com/HamaraGhaziabad
Subscribe to our News Channel