ताज़ा खबर :
prev next

वैशाली से मोहननगर कॉरिडोर पर दौड़ेगी ड्राईवरलैस मेट्रो

गाजियाबाद। एनसीआर में नोएडा-वैशाली टू मोहननगर के फेज तीन कॉरिडोर पर ड्राइवर लैस मेट्रो ट्रेन दौड़ेगी। दिल्ली मेट्रो रेल कारपोरेशन (डीएमआरसी) की ओर से दी गई डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट (डीपीआर) में इसको साफ कर दिया है। मजेंटा लाइन की तरह ही मेट्रो फेज तीन कॉरिडोर की इस ड्राइवर लैस मेट्रो का संचालन डीएमआरसी के सेंट्रल कंट्रोल रूम से होगा। कॉरिडोर का निगरानी और प्रोटेक्शन सिस्टम भी पूरी तरह से ऑटोमेटिक होगा।

डीएमआरसी की ओर से फेज तीन की डीपीआर देने के बाद जीडीए ने उसे शासन भेज दिया है। डीएमआरसी की ओर से फेज तीन की दी गई डीपीआर में पहले केंद्र सरकार के 20 फीसदी व जीडीए के 80 फीसदी अंशदान के पैटर्न को जगह दी थी। जिस पर प्राधिकरण की ओर से आपत्ति जताई गई थी। अब शासन को भेजी गई संशोधित डीपीआर में फंडिंग निर्णय शासन स्तर से होने की बात को शामिल किया है। जीडीए अधिकारी 80 फीसदी में से अधिकांश हिस्से की फंडिंग शासन से होने की संभावना जता रहे हैं।

नोएडा-वैशाली टू मोहननगर कॉरिडोर पर आठ-आठ कोच वाली मेट्रो ट्रेन दौड़ेगी। ड्राइवर लैस एक ट्रेन में 2352 यात्रियों के सवार होने की क्षमता होगी। इसके अलावा ट्रेन की न्यूनतम गति 33 किमी व अधिकतम 80 किमी प्रति घंटा होगी। नोएडा इलेक्ट्रॉनिक सिटी से साहिबाबाद तक का कॉरिडोर 18695.3 वर्ग मीटर जमीन पर होगा, जबकि वैशाली से मोहननगर तक का कॉरिडोर 79134.5 वर्ग मीटर जमीन पर बनेगा।

मेट्रो के नोएडा-वैशाली टू मोहननगर के फेज-तीन कॉरिडोर का रूट 10.17 किलोमीटर लंबा है। इसमें नोएडा सेक्टर-62 से साहिबाबाद तक 5.11 किमी लंबे एलिवेटेड रूट की कुल लागत 1873.49 करोड़ प्रस्तावित है। इस कॉरिडोर पर नोएडा सेक्टर-62, इंदिरापुरम वैभव खंड, शक्ति खंड और वसुंधरा सेक्टर-पांच पर स्टेशन होगा। वहीं वैशाली टू मोहननगर मेट्रो रूट की लंबाई 5.06 किलो मीटर है। डीपीआर में इस रूट की कुल लागत 2117.38 करोड़ रुपये निर्धारित की गई है। इस कॉरिडोर पर वैशाली, प्रहलादगढ़ी, वसुंधरा सेक्टर-14, साहिबाबाद और मोहननगर स्टेशन होंगे। दोनों कॉरिडोर साहिबाबाद में जुड़ने के चलते यहां जक्शन बनेगा।

डीएमआरसी की मेट्रो फेज तीन डीपीआर में नोएडा से वसुंधरा-सेक्टर 14 और वैशाली से मोहनगर मेट्रो कॉरिडोर पर 2021 से 2051 तक सफर करने वाले यात्रियों की संख्या का अनुमान भी लगाया गया है। इसमें 2021 में 83736 यात्री प्रतिवर्ष तो 2051 में 257465 यात्रियों के प्रति किमी ेप्रति वर्ष सफर करने का अनुमान लगाया गया है।

 

आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो भी कर सकते हैं।