ताज़ा खबर :
prev next

अतिक्रमण बनता गया नासूर और अधिकारी गढ़ते गए रोज नए बहाने

गाजियाबाद। शहर के अधिकांश औद्योगिक क्षेत्रों की तरह ही बुलन्दशहर रोड औद्योगिक क्षेत्र में भी हर तरफ अतिक्रमण व्याप्त है। हर माह होने वाली उद्योग बंधु बैठक में उद्यमियों द्वारा हर बार यह मुद्दा उठाया जाता है। शहर में कई जिलाधिकारी और नगरायुक्त आए और चले गए, मगर अतिक्रमण की समस्या जस की तस बनी हुई है। इस समस्या के लिए बहुत हद तक वे नेता और जन प्रतिनिधि भी जिम्मेदार हैं, जो अपना वोट बैंक बचाने के लिए अतिक्रमण करते और कराते हैं।

इस बार भी बैठक में हर बार की तरह जब अतिक्रमण का मुद्दा उठा तो जिलाधिकारी ने अतिक्रमण हटाने के लिए नगर निगम सहित अन्य विभागों का निर्देश दे दिए। लेकिन, विभागों के आपसी तालमेल और अधिकारियों में इच्छा शक्ति की कमी के चलते इस बार भी अभियान के सफल होने की उम्मीद कम है। बता दें कि इससे पहले 12 मार्च को हुई उद्योग बन्धु बैठक में भी अतिक्रमण हटाने के निर्देश जिलाधिकारी द्वारा दिए गए थे। मगर इसके लिए तय की गई तारीख 17, 19 व 28 मार्च सहित 25 अप्रैल को भी पुलिस बल की गैर मौजूदगी के कारण कोई कार्यवाही नहीं हो सकी।

इस बारे में कविनगर जोन के प्रभारी हरि किशन से बात की गई, तो उन्होंने कहा कि निगम अतिक्रमण हटाने के लिए संजीदा है। लेकिन पुलिस बल मुहैया न हो पाने के कारण कार्यवाही नहीं की जा सकी है। नाम न छापने की शर्त पर एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि अतिक्रमण की समस्या के पीछे सबसे बड़ा कारण नेताओं का वोट बैंक है। दरअसल इन झुग्गियों को बसाने और फिर उन्हें किराए पर देने में शहर के कई सफेदपोश शामिल हैं और अतिक्रमण हटाया तो नेताओं का वोट बैंक भी हट जाएगा। आलम यह है कि जहाँ विभागों के आपसी तालमेल की कमी के चलते उद्यमियों को तारीख पर तारीख मिल रही है। वहीं, प्रशासन की नाक के नीचे क्षेत्र में अतिक्रमण फल फूल रहा है।

हमारा न्यूज़ चैनल सबस्क्राइब करने के लिए यहाँ क्लिक करें।
Follow us on Facebook http://facebook.com/HamaraGhaziabad
Follow us on Twitter http://twitter.com/HamaraGhaziabad
Subscribe to our News Channel