ताज़ा खबर :
prev next

Tag: inspirational articles

घने जंगलों में गर्भवती महिलाओं की जिंदगी बचा रही सुरेश की बाइक एंबुलेंस

नई दिल्ली। छत्तीसगढ़ के अबूझमाड़ निवासी नागरिकों के बीच सबसे बड़ी बाधा है यहां की भौगोलिक संरचना। यहां के पहाड़ों, घने जंगलों व नदियों की अपार बाधा के चलते बिजली, पानी व शिक्षा जैसी मूल सुविधाओं की तो बात ही … Continue reading “घने जंगलों में गर्भवती महिलाओं की जिंदगी बचा रही सुरेश की बाइक एंबुलेंस”


भारत की पहली महिला डॉक्टर थीं आनंदीबाई जोशी, 9वर्ष की उम्र में हो गई थी शादी

नई दिल्ली। भारत की पहली महिला डॉक्टर आनंदीबाई जोशी की कहानी दिल को छू लेने वाली है। ब्याह के बाद उनका नाम आनंदी गोपाल जोशी पड़ा। आईये जानते हैं डॉक्टर बनने की उनकी कहानी- पुणे में जन्‍मी आनंदीबाई जोशी की शादी नौ साल … Continue reading “भारत की पहली महिला डॉक्टर थीं आनंदीबाई जोशी, 9वर्ष की उम्र में हो गई थी शादी”


सफलता की कहानी- दूध बेचने वाले शख्स ने महिलाओं की गरीबी देखकर खड़ा कर दिया बंधन बैंक

नई दिल्ली। बंधन बैंक के सीईओ और मैनेजिंग डायरेक्टर, चंद्र शेखर घोष को गरीबी ने न सिर्फ ज़िंदगी की कई महत्वपूर्ण बारिकियां सिखाई बल्कि एक ऐसा बिजनेस आइडिया दिया जिसने उनके साथ लाखों लोगों की जिंदगी बदल दी। ये आइडिया … Continue reading “सफलता की कहानी- दूध बेचने वाले शख्स ने महिलाओं की गरीबी देखकर खड़ा कर दिया बंधन बैंक”


असफलता का डर दूर हो जाएगा इस महान वैज्ञानिक की कहानी पढ़कर

नई दिल्ली। दुनिया के सबसे महान वैज्ञानिकों में से एक थॉमस अल्वा एडिसन बहुत ही मेहनती इंसान थे। थॉमस एडिसन का जन्म 11 फरवरी 1847 को हुआ था और मृत्यु 18 अक्टूबर 1931 को हुई थी। बचपन में उन्हें यह … Continue reading “असफलता का डर दूर हो जाएगा इस महान वैज्ञानिक की कहानी पढ़कर”


अपने देश में नहीं मिला भारतीय चाय का स्वाद तो खोल दी चाय कंपनी, आज है करोड़ों की मालकिन

नई दिल्ली। कहते हैं सफलता उन्हें को मिलती है जो कुछ हट कर सोचते हैं या करते है। ब्रूक एड्डी नाम की एक अमरीकी महिला ने अपने देश में सफलता की एक नयी इबारत लिख दी। दरअसल, ब्रूक ने भारतीय चाय … Continue reading “अपने देश में नहीं मिला भारतीय चाय का स्वाद तो खोल दी चाय कंपनी, आज है करोड़ों की मालकिन”


गज़ब का जज़्बा, 270km का सफर तय कर यात्रियों का बोझ उठाने वाली महिला कुली

कटनी। महिलाओं को कमजोर समझना अब गुजरे ज़माने की बात हो गयी। रुढ़िवादी सोंच के लोग अक्सर कहते चले आये कि औरत की जगह घर से बाहर नही बल्कि रसोईघर में होती है। पुरुषों से कंधे से कंधा मिलाकर चलने … Continue reading “गज़ब का जज़्बा, 270km का सफर तय कर यात्रियों का बोझ उठाने वाली महिला कुली”


शाबाश इंडिया:-बिना हाथ के सैंकड़ों मरीजों का सहारा बनी हैं 19 वर्षीय पिंची

नई दिल्ली। सपनों की उड़ान उड़ने के लिए हौसले बुलंद होने चाहिए। आज हम आपको बताने जा रहे हैं पिंची गोगोई के हौसले के बारे में। पिंची गोगोई उन लोगों के लिए मिसाल हैं जो शारीरिक अक्षमता के चलते हार … Continue reading “शाबाश इंडिया:-बिना हाथ के सैंकड़ों मरीजों का सहारा बनी हैं 19 वर्षीय पिंची”


खुद किराये के घर में रहने वाले शख्स ने गरीबों को दान कर दी अपनी 2.3 एकड़ जमीन

उड़ीसा। उड़ीसा के एक छोटे से कस्बे जेपुर में रहने वाले मुगुदा सूर्यनारायण आचार्य ने अपने गांव में 250 भूमिहीन लोगों में अपनी 2.3 एकड़ जमीन दान कर दी। मुगुदा के परिवार में 15 सदस्य रहते हैं। जिसमें उनका बेटा, … Continue reading “खुद किराये के घर में रहने वाले शख्स ने गरीबों को दान कर दी अपनी 2.3 एकड़ जमीन”


दिव्यांग बेटे को आईएएस बनाने के लिए अपने कंधे पर बिठाकर कॉलेज ले जाता है पिता

मध्यप्रदेश। कुछ कर गुजरने का जज्बा हो तो इंसान गरीब हो या अमीर, उसके आगे मुश्किलें कुछ भी नहीं है। मध्य प्रदेश के राजगढ़ इलाके में दौलतपुरा के रहने वाले कालूसिंह सोंधिया का इकलौता बेटा जगदीश शारीरिक रूप से दिव्यांग … Continue reading “दिव्यांग बेटे को आईएएस बनाने के लिए अपने कंधे पर बिठाकर कॉलेज ले जाता है पिता”


लायनेस क्लब वैभवी ने कुष्ठ रोगियों के साथ मनाया वैलेनटाइन डे

गाज़ियाबाद। लायनेस क्लब इन्दिरापुरम वैभवी ने बुधवार को सुमन बिष्ट की अध्यक्षता में नवजीवन कुष्ठ आश्रम जाकर  कुष्ठ रोगियों के साथ वैलेनटाइन डे व महाशिवरात्रि का पर्व मनाया। इस अवसर पर वैभवी सदस्य आश्रम के लिए उपहार स्वरूप राशन, खाद्य … Continue reading “लायनेस क्लब वैभवी ने कुष्ठ रोगियों के साथ मनाया वैलेनटाइन डे”


दिव्यांगता नही बनी बाधक, दृष्टिहीन नागशेट्टी ने 6 वर्ष में पूरी की पीएचडी

बेंगुलुरू। जन्म से ही एक आंख से दृष्टिहीन नागशेट्टी जब 15 साल के थे तो उनकी दूसरी आंख की रोशनी भी चली गई। लेकिन इसके बावजूद उन्होंने कभी अपने सपनों को नहीं छोड़ा। हाल ही में उन्हें बेंगलुरु यूनिवर्सिटी से … Continue reading “दिव्यांगता नही बनी बाधक, दृष्टिहीन नागशेट्टी ने 6 वर्ष में पूरी की पीएचडी”