ताज़ा खबर :
prev next

अंतर्राष्ट्रीय मजदूर दिवस पर श्रमिकों ने जाने अपने अधिकार

गाज़ियाबाद। नासिरपुर लेवर चैक स्थित सहभागी शिक्षण केन्द्र द्वारा द टाटा ट्रस्ट मुम्बई के सहयोग से “प्रवासी श्रमिक सहयोग कार्यक्रम” के तहत अंतर्राष्ट्रीय मजदूर दिवस कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कार्यक्रम का उद्देश्य प्रवासी श्रमिको को उनके अधिकारो के प्रति जागरूक करना है। इस दौरान पेंटर, बेलदारी, राजमिस्त्री एवं अन्य प्रवासी श्रमिकों ने हिस्सा लिया। कार्यक्रम की शुरूआत “दुनिया के मजदूरों एक हो” का नारा लगाते हुये किया गया। फिर सहभागी शिक्षण केन्द्र, द्वारा प्रवासी श्रमिकों को मजदूर दिवस के इतिहास के बारे में बताया गया।

बता दें, मजदूर दिवस विश्वभर मे अंतर्राष्ट्रीय तौर पर मनाया जाता है। मजदूर दिवस पर एक प्रचलित नारा भी सुनाई देता हैं, जो शायद ही वर्ष के किसी और दिनों में सुनाई देता हो। “दुनिया के मजदूरों एक हो” दरअसल इस नारे के पीछे मजदूरों के एक लम्बे संघर्ष की कहानी है, और इसी की उपज है जो आज भारत में मजदूर दिवस श्रमिकों के सम्मान में मनाया जाता है।

इस कार्यक्रम में खुली चर्चा का आयोजन किया गया जिसमें मजदूरों ने अपने अधिकारों के प्रति विचार व्यक्त किये। इसके बाद मजदूरों के अधिकार विषय पर कृष्णकुमार गुप्ता ने श्रमिकों के साथ न्यूनतम मजदूरी अधिनियम, 1948 , मजदूरी भुगतान अधिनियम, 1936 , अंतर्राज्यीय प्रवासी श्रमिक अधिनियम, 1979, स्त्री विशिष्ट कानून पर एवं मजदूरों के लिये श्रम विभाग द्वारा चलाई जा रहीं 17 योजनाओं की जानकारी दी। इस दौरान सभी श्रमिकों ने अपने अधिकारों को समझा। इस कार्यक्रम का संचालन सहभागी शिक्षण केन्द्र की टीम कृष्णकुमार गुप्ता, दीनानाथ सिंह व विरेन्द्र ने किया।

हमारा गाज़ियाबाद के एंड्राइड ऐप के लिए आप यहाँ क्लिक कर सकते हैंआप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो भी कर सकते हैं।