ताज़ा खबर :
prev next

राजस्थान: फिर सुलगा गुर्जरों का आरक्षण आंदोलन, 167 गांवों में इंटरनेट बंद

भरतपुर। 15 मई से गुर्जर समुदाय फिर से बयाना में महापंचायत कर आरक्षण आंदोलन की शुरुआत कर रहे हैं। आरक्षण की इस मांग की भनक जैसे ही प्रशासन को लगी, उनके हाथ-पांव फूलने लगे हैं। रेलवे भी सतर्क हो गया है और इससे लिपटने के लिए बड़े पैमाने पर सुरक्षा बल के इंतजाम भी कर लिये गये हैं।

आरक्षण की मांग को लेकर गुर्जरों के आंदोलन की खबर सरकार को लग चुकी है और भरतपुर के संभागीय आयुक्त ने 80 पंचायतों के 167 गांवों में इंटरनेट सेवाओं पर 15 मई की शाम तक के लिए प्रतिबंध लगा दिया है। गुर्जर समुदाय 15 मई से बयाना में महापंचायत कर आरक्षण आंदोलन की शुरुआत करने जा रहा है।

आरक्षण को लेकर आंदोलन की जानकारी जिला प्रशासन को लगी तब कलेक्टर ने गुर्जर नेता किशोरी सिंह बैंसला से वार्ता करने का प्रस्ताव भी भेजा। गुर्जर समुदाय आरक्षण की मांग लगातार करता रहा है और उनके आंदोलन के कारण सरकारी संपत्ति को सबसे अधिक नुकसान होता है। रेलवे भी इस आंदोलन को लेकर सतर्क है और सुरक्षा के बंदोबस्त भी किए जा रहे हैं।

बता दें कि गुर्जर समुदाय ने वर्ष 2007 में 29 मई से 5 जून सात दिनों तक आंदोलन किया था जिसमें 38 लोग मारे गए थे। वहीं इस आंदोलन की चपेट में 22 जिले रहे थे। इसके बाद 23 मई से 17 जून 2008 तक 27 दिन तक गुर्जर आंदोलन चला था जिसमें 30 से ज्यादा जानें गई थीं। इस आंदोलन का व्यापक असर देखने को मिला था और इसकी चपेट में देश के 9 राज्य रहे थे।

हमारा न्यूज़ चैनल सबस्क्राइब करने के लिए यहाँ क्लिक करें।
Follow us on Facebook http://facebook.com/HamaraGhaziabad
Follow us on Twitter http://twitter.com/HamaraGhaziabad
Subscribe to our News Channel