ताज़ा खबर :
prev next

नौकरी छोड़कर निकले हैं देश नापने, भिखारी बच्चों के पुनर्वास की खाई है कसम

गाज़ियाबाद | दिल्ली के इंजीनियर आशीष शर्मा ने बच्चों को भीख मांगने की कुप्रथा से आजाद करने के लिए एक अनोखी पहल की है। वे पिछले साल अच्छी खासी नौकरी छोड़कर लोगों को जागरूक करने के लिए पैदल यात्रा पर निकल पड़े। सोमवार को आशीष ने बरेली के एडीएम सिटी ओपी वर्मा से मुलाकात की।

पिछले साल युवा इंजीनियर का दिल्ली में कुछ बच्चों को भीख मांगते देख दिल पसीज गया। इसके बाद इस कुप्रथा को खत्म कराने के लिए उन्होंने एक मुहिम छेड़ दी। पिछले साल 22 अगस्त को आशीष ने जम्मू के ऊद्यमपुर से जागरूकता पदयात्रा की शुरुआत की। करीब 9 महीने से आशीष 5 हजार किमी. की पैदल यात्रा कर चुका है। आशीष स्कूलों में जाकर स्टूडेंट को बच्चों को भीख न देने की शपथ दिलाते हैं। उनका मानना है कि अगर बच्चों की भीख न दी जाए तो आधी दिक्कत खुद ही दूर हो जाएगी। आशीष ने एडीएम सिटी से मुलाकात की। एडीएम सिटी समेत सभी अफसरों से आशीष ने भीख मांगने वालों बच्चों को सरकारी योजनाओं के जरिए मुख्य धारा में लाने में मदद करने की अपील की। आशीष ने बताया कि वह रोजाना 40 किमी रोजाना पदयात्रा करते हैं।

हमारा न्यूज़ चैनल सबस्क्राइब करने के लिए यहाँ क्लिक करें।
Follow us on Facebook http://facebook.com/HamaraGhaziabad
Follow us on Twitter http://twitter.com/HamaraGhaziabad
Subscribe to our News Channel