ताज़ा खबर :
prev next

निगम का बस चले तो फ़्लाइओवर पर भी बना दें “सार्वजनिक शौचालय”

गाज़ियाबाद | काफी समय पहले की बात है उस समय देश में इन्दिरा गांधी का राज था। हरित मिशन के तहत वर्ल्ड बैंक ने राजस्थान सरकार को रेगिस्तानी वातावरण के अनुकूल कीकर आदि के पेड़ लगाने के लिए बीज और उन्हें लगाने के लिए पैसा भी दिया। शर्त यह थी कि सारे बीज आने वाले मानसून से पहले ही रोप दिए जाएँ। बस फिर क्या था, मिले बीज और पैसे को खपाने के लिए राजस्थान सरकार ने धड़ाधड़ बीज बांटने शुरू कर दिए मगर तादाद ज्यादा होने के कारण बीज खत्म होने का नाम ही नहीं ले रहे थे। मीलों लंबे रेगिस्तान में बीज फैलाने में सरकार भी असमर्थ थी। सरकारी खर्च पर विदेश से ट्रेनिंग पाये नौकरशाह ने सलाह दी कि क्यों न रेगिस्तान में हम छोटे हवाई जहाजों से फैला दें। सरकार को सलाह पसंद आई और बस फिर क्या था, सरकार ने दर्जनों छोटे जहाज किराए पर लिए और 15 दिनों में बीज फैला दिए। वर्ल्ड बैंक से मिला पैसा और बीज दोनों ही खत्म तो हो गए। मगर, साथ ही रेगिस्तान में बसे छोटे-छोटे गावों में बने घरों की छतों पर भी कीकर के पेड़ उग आए। कारण – हवाई जहाज से फैलाये गए बीज इन घरों की छतों पर भी गिर गए थे और मानसून में अनुकूल वातावरण पाकर पेड़ बन गए।

कुछ ऐसा ही हाल गाजियाबाद नगर निगम का भी है। खुले में शौच से मुक्ति (ओडीएफ़) मिशन के तहत केंद्र सरकार ने निगम को शहर में सार्वजनिक शौचालय बनाने के लिए पैसा दिया है। शर्त यहाँ भी निश्चित समय में पैसे को खर्च करने की है। सरकार से मिले पैसे को खत्म करने और उससे मिलने वाले कमीशन को कमाने के लिए इन दिनों निगम धड़ाधड़ शौचालय बनवा रहा है। हालत यह हो गई है कि निगम के कर्मचारियों को ग्रीन बेल्ट समेत जहां भी जगह मिल रही है, शौचालय बनवाए जा रहे हैं। आधे से अधिक शौचालयों को न तो सीवर लाइन से जोड़ा गया है न ही उनमें पानी और रख रखाव की व्यवस्था है। बहुत से शौचालयों की गंदगी तो नियमों के विरुद्ध सीधे पास बहते नाले-नालियों में डाली जा रही है। नतीजा यह है कि बिना किसी पूर्व योजना के बने ये शौचालय शहर भर में बदबू और गंदगी के नए स्रोत बन गए हैं।

ऊपर बैठे अधिकारियों की अनदेखी के कारण अब वह दिन दूर नहीं जब डस्टबिन घोटाले की तरह ही शहर में शौचालय घोटाला भी कुछ दिनों के लिए चर्चा में आयेगा। पहले की तरह ही इस बार भी एक जांच कमेटी बैठा दी जाएगी जिसकी जांच का नतीजा भी पहले ही की तरह शून्य ही निकलेगा।

हमारा न्यूज़ चैनल सबस्क्राइब करने के लिए यहाँ क्लिक करें।
Follow us on Facebook http://facebook.com/HamaraGhaziabad
Follow us on Twitter http://twitter.com/HamaraGhaziabad
Subscribe to our News Channel