ताज़ा खबर :
prev next

स्टेशनों के पुनर्विकास को गति देने के लिए जल्द बदले जाएंगे नियम

नई दिल्ली। छह सौ रेलवे स्टेशनों को नए सिरे से चमकाने की योजना में स्टेशनों की संख्या पहले 90 और अब सिकुड़कर 50 रह गई है। इनमें से दो दर्जन स्टेशनों पर अगले आम चुनाव से पहले काम शुरू करने की सरकार की तैयारी है, जिसे हर हाल में अगले तीन वर्ष में समाप्त करना होगा। इसके लिए जमीन की लीज अवधि बढ़ाने के प्रस्ताव पर अगले सप्ताह कैबिनेट में विचार होने की संभावना है। यही नहीं, काम में तेजी लाने के लिए स्टेशनों के पुनर्विकास का काम पीपीपी के बजाय ईपीसी मोड पर कराने की योजना है। इसमें सरकार निजी कंपनियों को अग्रिम भुगतान करेगी जिसे बाद में मुनाफे के साथ किस्तों में वसूला जाएगा।

सूत्रों के मुताबिक, कैबिनेट प्रस्ताव में स्टेशन डेवलपमेंट प्रोजेक्ट में हिस्सा लेने वाली कंपनियों को 45 वर्ष के बजाय 99 वर्ष की लीज पर जमीन उपलब्ध कराने का प्रावधान किया गया है। जहां रेलवे की जमीन कम पड़ेगी वहां केंद्र अथवा राज्य सरकारें फ्रीहोल्ड जमीन उपलब्ध कराएंगी। इतना ही नहीं, अनुबंध हासिल करने वाली कंपनियों को काम पूरा कराने के लिए केवल एक के बजाय सुविधानुसार कई उप-ठेके देने की स्वतंत्रता होगी।

सबसे पहले जिन स्टेशनों का पुनर्विकास होगा उनमें अयोध्या, वाराणसी, काशी, चारबाग, गोमतीनगर, आनंद विहार, सराय रोहिल्ला और बिजवासन के अलावा इलाहाबाद, गोरखपुर, मोतीहारी और झांसी का नंबर आएगा। इनके ठेके छह महीनों के भीतर दे दिए जाएंगे। ईपीसी मोड में काम कराने के लिए रेलवे स्टेशन डेवलपमेंट कारपोरेशन को बाजार से धन जुटाने को कहा गया है। जबकि उसे शुरुआती पूंजी सरकार उपलब्ध कराएगी।

स्टेशन पुनर्विकास की इस योजना में कंपनियां केवल बड़े शहरों के व्यापारिक दृष्टि से आकर्षक स्टेशनों के लिए ही बोली न लगाएं इसके लिए ऐसे स्टेशनों के साथ कुछ छोटे स्टेशनों को जोड़ने की भी योजना है। इस प्रक्रिया के तहत आकर्षक स्टेशन उसी कंपनी को दिए जाएंगे जो साथ में एक-दो छोटे और वाणिज्यिक दृष्टि से कम आकर्षक स्टेशनों के पुनर्विकास के लिए भी तैयार हों। पीपीपी मॉडल में विलंब की आशंकाओं के कारण फिलहाल इस मोड को टाला जा रहा है। इस पर ईपीसी मोड की कामयाबी के बाद विचार किया जाएगा।

हमारा न्यूज़ चैनल सबस्क्राइब करने के लिए यहाँ क्लिक करें।
Follow us on Facebook http://facebook.com/HamaraGhaziabad
Follow us on Twitter http://twitter.com/HamaraGhaziabad

Subscribe to our News Channel