ताज़ा खबर :
prev next

128 रुपये में बंदरों के आतंक से मिलेगी निजात

गाजियाबाद। बंदरों का आतंक जल्द खत्म हो जाएगा। शासन ने नगर निगम को बंदर पकड़ने और उसे दूर छुड़वाने के लिए मंजूरी प्रदान कर दी है। निगम ने हरी झंडी मिलते ही ठेकेदार को वर्क आर्डर जारी करने की प्रक्रिया शुरू कर दी है।

राजनगर, कविनगर, शास्त्रीनगर, गोविन्दपुरम, संजय नगर, पटेल नगर, नेहरू नगर, इंदिरापुरम, शालीमार गार्डन, मोहननगर, वैशाली समेत शहर की कई कॉलोनियों में बंदरों ने आतंक मचा रखा है। बालकनी और घर के आंगन में सूख रहे कपड़े बंदर फाड़ देते हैं। दरवाजा खुला रह जाए तो घर के अंदर घुस कर सामान तहस नहस कर देते हैं। कोई भगाने जाए तो बंदर उसे काटने को दौड़ते हैं। कई लोग इस कारण जख्मी तक हो चुके हैं। इस आतंक से परेशान कई लोगों ने नगर निगम को शिकायत की थी।

कुछ लोगों ने आइजीआरएस पोर्टल पर अपनी व्यथा व्यक्त की थी। उस पर कार्रवाई करते हुए नगर निगम ने टेंडर निकाले थे। जिसमे बंदर पकड़ने वाले कई लोगों ने आवेदन किए थे। टेंडर खुल गया था, लेकिन शासन से बंदर पकड़ने और उसे ट्रांसपोर्ट कर दूर छोड़ने की अनुमति नहीं मिली थी। इस वजह से वर्क आर्डर जारी नहीं हो पाया था। अब मंजूरी मिलते ही वर्क आर्डर की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है।

128 रुपये में पकड़ा जाएगा एक बंदर

एक बंदर पकड़ने के लिए ठेकेदार को 128 रुपये का भुगतान किया जाएगा। जिसमे बंदरों को पकड़ने, उन्हें खाना खिलाने और सुरक्षित रखने का इंतजाम करेंगे। वृंदावन या उत्तराखंड के जंगलों में छोड़ने के लिए वाहन का खर्च निगम उठाएगा। शासन में बंदर पकड़ने और उन्हें दूर छोड़ने के लिए मंजूरी दे दी है । 128 रूपये में एक बंदर पकड़ने का ठेका देने के लिए वर्क आर्डर जारी किया जा रहा है।

हमारा न्यूज़ चैनल सबस्क्राइब करने के लिए यहाँ क्लिक करें।
Follow us on Facebook http://facebook.com/HamaraGhaziabad
Follow us on Twitter http://twitter.com/HamaraGhaziabad

Subscribe to our News Channel