ताज़ा खबर :
prev next

शाबाश इंडिया: कोई सरकारी मदद नहीं, फिर भी ये महिला हजारों बच्चों की भरती है फीस

नई दिल्ली। गुजरात के वडोदरा में एक बेटी पिछले सात सालों से गरीब बच्चों को अपने बलबूते पर शिक्षित कर रही है। वो हर साल हजारों गरीब बच्चों के स्कूल की पूरी फीस भरती है, ताकि उनकी शिक्षा में कोई अड़चन न आए और इसके लिए वो सालाना लगभग एक करोड़ की फीस जमा करवाती हैं।

बडोदरा की निशिता राजपूत अपने बलबूते पर गरीबों के बीच शिक्षा की अलख जगा रही हैं। इनके नेक मुहिम का ही नतीजा है कि हजारों गरीब बेटियां स्कूल की दलहीज पार करके शिक्षा ले रही हैं। निशिता ने छोटी उम्र में ही समाज को रोशन करने का सपना संजोया। अब साल-दर साल अपने इस सपने को साकार कर रही हैं। वो उन हजारों गरीब बच्चों की फीस भरती हैं, जो पैसे के अभाव में स्कूल से महरूम रह जाते हैं। निशिता ने आज से सात साल पहले गरीब बच्चों की फीस भरनी शुरू की थी। इन्होंने पहली बार 351 छात्राओं के स्कूल की फीस जमा करवाई थी। पिछले साल इन्होंने बतौर फीस 67 लाख का चेक जमा किया था। वहीं इस साल ये 10 हजार से ज्यादा बच्चों की फीस जमा करेंगी।

निशिता इस साल 1 करोड़ की फीस जमा कराएंगी। उनसे मदद लेने वाले भी मानते हैं कि आज के महंगाई में बच्चों को पढ़ाना बेहद मुश्किल है, लेकिन निशिता की नेक पहल से न सिर्फ उनके बच्चों का मनोबल बढ़ा है बल्कि उन बच्चों के लिए निशिता एक रोल मॉडल बन गई हैं।अपने इस सराहनीय कदम से निशिता प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ‘बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ’ अभियान को भी आगे बढ़ा रही हैं। निशिता के द्वारा दिया गया पैसा सीधे स्कूल के अकाउंट में डिपॉजिट किया जाता है। यही नहीं पैसे जमा होने की जानकारी बच्चों को भी शेयर की जाती है।

इसी पारदर्शिता के कारण आज निशिता को देश-विदेश से भी आर्थिक मदद मिल रही है। जिसके कारण वो अब तक हजारों गरीब बच्चों की फीस जमा कर चुकी हैं। निशिता के इस नेक अभियान से हजारों गरीब बच्चों के जीवन में उजाला आया है। निशिता का कहना है कि वो आगे भी इसी तरह गरीबों के घर में निस्वार्थ भाव से शिक्षा की अलख जगाती रहेंगी।

हमारा न्यूज़ चैनल सबस्क्राइब करने के लिए यहाँ क्लिक करें।
Follow us on Facebook http://facebook.com/HamaraGhaziabad
Follow us on Twitter http://twitter.com/HamaraGhaziabad

Subscribe to our News Channel