ताज़ा खबर :
prev next

जीडीए में ठेकेदारी के लिए अब जरूरी नहीं होगा रजिस्ट्रेशन, बोर्ड बैठक में होगी प्रस्ताव पर चर्चा

गाज़ियाबाद | गाज़ियाबाद विकास प्राधिकरण (जीडीए) में पंजीकृत ठेकेदारों की मनमानी रोकने के लिए प्राधिकरण के नियमों में एक बड़ा बदलाव किया जा रहा है। सूत्रों के अनुसार अब जीडीए में किसी भी काम का ठेका लेने के लिए ठेकेदार का प्राधिकरण में पंजीकृत होना जरूरी नहीं है। इसके लिए प्राधिकरण का इंजीनियरिंग अनुभाग प्रस्तावित बोर्ड बैठक में प्रस्ताव ला रहा है। वहां से हरी झंडी मिलते ही इस व्यवस्था को पूरी प्राधिकरण पर लागू कर दिया जाएगा।

बता दें कि जीडीए में सिविल, विद्युत, उद्यान आदि के विकास कार्य व अन्य व्यवस्थाओं के लिए नियमित तौर पर निविदाएँ आमंत्रित की जाती हैं। इस निविदाओं में केवल वहीं ठेकेदार भाग ले पाते हैं जो प्राधिकरण में पंजीकृत हैं। जीडीए के अधिकारियों का कहना है कि इस नियम के कारण कुछ ठेकेदार ही विकास कार्यों का लगातार ठेका ले रहे हैं और अपने मनमाने तरीके से काम कर रहे हैं। इनमें के कुछ ठेकेदार तय समय सीमा के अंदर भी काम पूरा करके नहीं दे रहे हैं। इसी समस्या को देखते हुए जीडीए उपाध्यक्ष रितु माहेश्वरी ने विकास कार्यों का ठेका लेने के लिए खुली प्रतिस्पर्धा लागू करने के निर्देश दिए। अब जीडीए की 15 जून को प्रस्तावित बोर्ड बैठक के एजेंडे में इंजीनियरिंग अनुभाग ने इस प्रस्ताव को शामिल किया है। जीडीए के अधिकारी बताते हैं कि इस प्रस्ताव को हरी झंडी मिलने के बाद इसे पूरी प्राधिकरण पर लागू कर दिया जाएगा। इससे ज्यादा से ज्यादा प्राधिकरण को फायदा होगा और नई एजेंसियां व ठेकेदार आगे आ सकेंगे।

क्या है मौजूदा व्यवस्था –

प्राधिकरण के नियमानुसार, विकास कार्यों का ठेका लेने के लिए ठेकेदार या एजेंसी को साल में एक बार प्राधिकरण में फीस जमा करके पंजीकरण कराना होता है। जो ठेकेदार या एजेंसी प्राधिकरण में पंजीकरण कराती है। वहीं प्राधिकरण की किसी भी तरह के विकास कार्यों की निविदाओं में भाग ले सकती है। ऐसा होने से ठेकेदार मनमानी तरीके से कार्य कर रहे हैं। इसी प्रतिस्पर्धा को खत्म करने के लिए नई व्यवस्था की जा रही है। जीडीए के अधिकारियों का कहना है कि शासन के नियमानुसार 10 लाख तक के कार्य ई टेंडरिंग के बिना भी किए जा सकते हैं, लेकिन इससे ज्यादा कीमत के कार्यों के लिए प्राधिकरण में ई टेंडरिंग व्यवस्था लागू हो। इस ई टेंडरिंग व्यवस्था में अब कोई भी ठेकेदार भाग ले सकता है।

कैसे लें निविदाओं में भाग –

जीडीए के विकास कार्यों का ठेका लेने के लिए ठेकेदार या एजेंसी को जिलाधिकारी कार्यालय से वैध चरित्र प्रमाण पत्र, निविदा धनराशि के अनुरूप जिलाधिकारी कार्यलय से वैध हैसियत प्रमाण पत्र एवं सौ के स्टाप पेपर पर नोटरी से सत्यापित स्व घोषणा शपथ पत्र, ई निविदा के साथ अपलोड करना होगा।

हमारा न्यूज़ चैनल सबस्क्राइब करने के लिए यहाँ क्लिक करें।
Follow us on Facebook http://facebook.com/HamaraGhaziabad
Follow us on Twitter http://twitter.com/HamaraGhaziabad
Subscribe to our News Channel