ताज़ा खबर :
prev next

बुराड़ी आत्महत्या कांड में हो सकता है तांत्रिक का हाथ, रजिस्टर में लिखा है – मोक्ष की प्राप्ति होगी !

नई दिल्ली | राजधानी दिल्ली में बुराड़ी इलाके के एक घर में हुई 11 मौतों के पीछे अंधविश्वास और किसी तांत्रिक का हाथ हो सकता है। सूत्रों के अनुसार पुलिस ने उस घर से एक रजिस्टर बरामद किया है जिसमें आत्महत्या करने के तरीके का विवरण है। रजिस्टर में लिखा है कि स्टूल का इस्तेमाल करेंगे, आंखें बंद करेंगे और हांथ बांध लेंगे तो आपको मोक्ष की प्राप्ति होगी. फिलहाल इन सभी शवों का पोस्टमार्टम हो रहा है और उसी के बाद साफ होगा कि मौत की असली वजह क्या है।

बता दें कि कल बुराड़ी से बरामद एक ही परिवार के ग्यारह शवों के हाथ पैर बंधे थे और मुंह पर भी पट्टी बंधी थी। पहले तो इसे सामूहिक सुसाइड कहा जा रहा था, लेकिन पुलिस को घर के अंदर से एक रजिस्टर हाथ लगा, जिसने मौत की मिस्ट्री की दिशा अंधविश्वास की तरफ मोड़ दी। पुलिस सूत्रों के मुताबिक घर से बरामद रजिस्टर में मोक्ष प्राप्ति का रास्ता बताया गया है। रजिस्टर में लिखा है, ‘’अगर आप स्टूल का इस्तेमाल करेंगे, आंखें बंद करेंगे और हाथ बांध लेंगे तो आपको मोक्ष की प्राप्ति होगी।’’ घर से बरामद शवों के भी हाथ बंधे थे, शवों के आंखों पर भी पट्टी बंधी थी। पुलिस अब धार्मिक एंगल से भी मामले की जांच में जुटी हुई है।

इन ग्यारह लोगों में जो बुजुर्ग महिला शामिल हैं उनकी दूसरी बेटी सुजाता हरियाणा के पानीपत में रहती हैं। संवाददाताओं ने जब सुजाता से बात की तो उनका कहना था परिवार धार्मिक जरूर था, लेकिन अंधविश्वासी नहीं। सुजाता ने बताया कि उनका परिवार बहुत अच्छा था और खुश रहता था। उन्होंने यह भी कहा कि उन्हें किसी पर कोई शक नहीं है। सब काफी सुलझे लोग थे, रिश्तेदार अब सीबीआई जांच की मांग कर रहे हैं।

आपको बता दें कि दिल्ली के बुराड़ी में मारे गए परिवार में 17 जून को सगाई का भी कार्यक्रम हुआ था, जिसमें रिश्तेदार शामिल भी हुए थे। सगाई तक या उसके बाद तक कोई भी विवाद की बात सामने नहीं आई। सगाई की तस्वीरें भी सामने आई हैं, जिसमें परिवार के सदस्य डांस करते दिख रहे हैं। जिन दो भाइयों के शव मिले हैं, ये कार्यक्रम उनकी बहन की बेटी प्रियंका की सगाई का था। प्रियंका का भी शव 11 लोगों में शामिल है। गौरलतब है कि 11 शवों में सात महिलाओं के जबकि चार पुरुषों के हैं। इनमें से कुछ शव फंदे से लटके मिले जबकि कुछ के शव जमीन पर पड़े हुए थे, जिनके हाथ और पैर बंधे हुए थे। कुछ शवों की आंखों पर पट्टी बंधी हुई थी। मृतक परिवार भाटिया परिवार के नाम से जाना जाता था और बुराड़ी के संत नगर में अपने दोमंजिले घर में एक ग्रॉसरी की दुकान और प्लाइवुड की दुकान चलाता था।

पुलिस अधिकारी ने बताया, “दुकान रोजाना सुबह छह बजे खुल जाती थी लेकिन जब आज सुबह 7.30 बजे तक दुकान नहीं खुली तो एक पड़ोसी ने इसका कारण जानने के लिए घर के भीतर देखा तो पाया कि घर के कई लोग आंगन की जाली से लटके हुए हैं। पड़ोसी ने तुरंत पुलिस को इसकी सूचना दी।”

हमारा न्यूज़ चैनल सबस्क्राइब करने के लिए यहाँ क्लिक करें।
Follow us on Facebook http://facebook.com/HamaraGhaziabad
Follow us on Twitter http://twitter.com/HamaraGhaziabad