ताज़ा खबर :
prev next

सूरत के अंडरग्राउंड कूड़ाघरों से प्रेरणा लेकर बदल सकती है गाज़ियाबाद की भी शक्ल सूरत

गाज़ियाबाद | हमारे गाज़ियाबाद में कचरे से निपटना एक बड़ी समस्या बन गई है, लेकिन गाज़ियाबाद नगर निगम के अधिकारी यदि गुजरात के सूरत शहर से प्रेरणा लें तो हमारे यहाँ की कचरा-प्रबंधन प्रणाली भी काफी हद तक बेहतर हो सकती है। सूरत शहर में कचरे से निपटने के लिए ऐसा सिस्टम विकसित किया गया है जिसके तहत शहर में 43 अंडरग्राउंड बॉक्स लगाए हैं। इन बक्सों में एक बार में 1.5 टन कचरा तक समा सकता है। नगर निगम ने यह पहल स्मार्ट सिटी अभियान के तहत की है। कचरे के इन भूमिगत बक्सों में एक सेंसर भी लगा है। जैसे ही ये बॉक्स 70 फीसदी तक भरता है, यहां से कंट्रोल रूम को सिग्नल जाता है कि इस बॉक्स को जल्द से जल्द खाली करें।

खास बात यह है कि इन अंडरग्राउंड बॉक्स को फुटपाथ पर लगाया जा सकता है। कचरा डालने के लिए इन बक्सों में दो हिस्से हैं, एक रास्ते से आम लोग कचरा डाल सकते हैं, जबकि दूसरे हिस्से का उपयोग नगर निगम के लिए रहेगा। सूरत नगर निगम के कमिश्नर एम. थेन्नारासन का कहना है कि हम शहर भर में ऐसे ही 75 बॉक्स लगाएंगे। हमने शुरुआत में पायलट प्रोजेक्ट के तहत यह प्रयोग बहुत छोटे एरिया में शुरू किया, अब इसकी दूसरे क्षेत्रों से भी मांग आ रही है। एक बार इसके रिजल्ट और लोगों की प्रतिक्रियाएं जान लें उसके बाद इसे दूसरे क्षेत्र में लगाया जाएगा। सूरत नगर निगम कमिश्नर के डिप्टी सी. वाई भट्ट कहते हैं कि इस सिस्टम का सबसे अच्छा पहलू ये भी है कि इस सिस्टम से कचरे से फैलने वाली दुर्गंध से भी निजात मिलती है।
आंकड़ों के अनुसार, सूरत रोजाना 2100 टन कचरा पैदा होता है. इसमें 800 टन कचरा प्रोसेस होता है। अधिकारियों के मुताबिक वह इस सिस्टम से 2000 टन कचरा प्रोसेस कर सकेंगे। सूरत में निगम के पास 425 वाहन हैं जो हर घर से कचरा एकत्रित करते हैं।

सूरत नगर निगम की एक खास बात और यह है कि यहाँ 57 मिलियन लीटर सीवेज से 40 मिलयन लीटर पानी पुनः उपयोग हेतु बनाया जाता है। इस पानी को सूरत के पास इंडस्ट्रियल एरिया को भेजा जाता है। इसमें प्रिंटिंग मिल्स में किया जाता है, सूरत में इसकी शुरुआत 2007 में तल्कालीन सीएम नरेंद्र मोदी ने की थी। उन्होंने सिंगापुर में ऐसा प्लांट देखा था, इसी आइडिया पर उन्होंने सूरत में काम शुरू कराया था।

हमारा न्यूज़ चैनल सबस्क्राइब करने के लिए यहाँ क्लिक करें।
Follow us on Facebook http://facebook.com/HamaraGhaziabad
Follow us on Twitter http://twitter.com/HamaraGhaziabad