ताज़ा खबर :
prev next

15 जुलाई से शुरू होगा डायरिया वैक्सीन अभियान

गाज़ियाबाद। डायरिया के प्रकोप से बच्चों को बचाने के लिए रोटा वैक्सीन जिले में 15 जुलाई से शुरू होगी। इसके साथ ही इस वैक्सीन को राष्ट्रीय टीकाकरण कार्यक्रम में शामिल किया जाएगा। वैक्सीन विभाग के पास पहुंच चुकी है। बच्चों को इस वैक्सीन को पिलाने के लिए कर्मचारियों का प्रशिक्षण भी पूरा किया जा चुका है।

बच्चों को होने वाले डायरिया के मामलों में 80 फीसद बीमारी रोटा वायरस के कारण होती है। डायरिया की चपेट में आने वाले चालीस फीसद बच्चे मौत का शिकार हो जाते हैं। प्रदेश में यह आंकड़ा लगभग एक लाख और जिले में लगभग डेढ हजार है। हालांकि रोटा वायरस के कारण होने वाली मौतों का स्वास्थ्य विभाग के पास कोई पुख्ता आंकड़ा नहीं है।

प्राइवेट अस्पतालों में अब तक 700 से 1500 रुपये तक में लगाने वाला रोटा वायरस की वैक्सीन ड्रॉप अब से सरकारी अस्पतालों में मुफ्त बच्चों को दी जाएगी। पहली बार टीकाकरण में इस बार रोटावायर वैक्सीन को भी शामिल किया गया है। इसके लिए गाजियाबाद से तीन स्टाफ का प्रशिक्षण लखनऊ में हो चुका है। जिला प्रतिरक्षण अधिकारी सहित डॉ. सूर्यांशु और एक एआरओ की स्टेट लेवल की ट्रेनिंग हुई है। इसके बाद टीकाकरण टीम को जनपद स्तरीय ट्रेनिंग दी जाएगी। इसके बाद 15 जुलाई से रोटा वैक्सीन बच्चों दी जानी शुरू की जाएगी। जिला प्रतिरक्षण अधिकारी डॉ. विश्राम सिंह ने बताया कि यह ड्रॉप एक साल तक के बच्चों को तीन बार में पिलाया जाएगा। बच्चों को इसकी ड्रॉप 6 हफ्ते, 10वें हफ्ते और 14वें हफ्ते में पिलाई जाएगी। यह वैक्सीन खासी प्रभावशाली है। तीन बार में इस वैक्सीन की 15 ड्रॉप पीने के बाद बच्चों को रोटा वायरस संक्रमण का खतरा नहीं रहेगा। यह है रोटावायरसनवजात बच्चों और गंभीर दस्त और होने का सामान्य कारण रोटा वायरस है। रोटा वायरस का सबसे सामान्य लक्षण है पतला दस्त होना, बुखार, पेट में दर्द उल्टी भी हो सकती है। यह हाथों और खिलौनों जैसी वस्तुओं से बच्चों में आसानी से फैल सकता है। इससे शरीर में पानी की भारी कमी हो जाती है और कई बार डिहाइड्रेशन के कारण बच्चों की जान भी चली जाती है।

हमारा न्यूज़ चैनल सबस्क्राइब करने के लिए यहाँ क्लिक करें।
Follow us on Facebook http://facebook.com/HamaraGhaziabad
Follow us on Twitter http://twitter.com/HamaraGhaziabad

Subscribe to our News Channel