ताज़ा खबर :
prev next

शाबाश इंडिया! पति-पुत्र के भ्रष्टाचार से तंग आकर इस महिला प्रधान ने दिया इस्तीफा

गाज़ियाबाद | गाज़ियाबाद समेत देश भर में महिला प्रधानों, पार्षदों, विधायकों और यहाँ तक की सांसदों के मामलों में भी ज़्यादातर सत्ता चुने गए जन प्रतिनिधि के पति, पिता या भाई के हाथों ही में रहती है। महिला जन प्रतिनिधि तो बस रबर की एक मुहर बनकर रह जाती है। लेकिन भ्रष्टाचार के खिलाफ मुहिम में उत्तर प्रदेश की इस महिला ग्राम प्रधान ने नायाब नजीर पेश की है। पीलीभीत जिले में मोहम्मद गंज गांव की प्रधान कमला देवी ने पति और बेटे के भ्रष्टाचार से तंग आकर प्रधान पद से ही अपना इस्तीफा जिलाधिकारी को सौंप दिया। कमला देवी ने जिलाधिकारी से कहा कि उनके पति और बेटे दोनों भ्रष्टाचार में लिप्त हैं तथा उन्हें जिम्मेदारियों से मुक्त नहीं होने दे रहे हैं। इसलिए दोनों के खिलाफ जांच कर कार्रवाई जाए। महिला ग्राम प्रधान ने जिलाधिकारी से सभी ग्राम पंचायत के खातों के संचालन पर रोक लगाने की मांग की ताकि उसका भ्रष्ट पति व पुत्र कोई धनराशि न निकल सके।

महिला ग्राम प्रधान की इस गुहार पर जिलाधिकारी अखिलेश मिश्रा ने जिला पंचायत राज अधिकारी पीके यादव को जांच कर कार्रवाई करने को कहा है। महिला ने कहा कि उनके पति मूलचंद और बेटा मिलकर गांव के विकास के लिए आने वाली सरकारी निधि का दुरुपयोग कर रहे हैं।ओडीएफ यानी खुले में शौच मुक्त मुहिम के लाभार्थियों से बेटे पर एक-एक हजार रुपये अवैध वसूली का भी महिला प्रधान ने आरोप लगाया।

हिन्दी अखबार जनसत्ता में प्रकाशित खबर के अनुसार प्रधान कमला देवी ने कहा कि उनका बेटा प्रधान पद की मुहर का गलत इस्तेमाल करता है। जब भी वह गलत कार्यों का विरोध करती हैं तो बेटा उन्हें प्रताड़ित करता है। महिला प्रधान ने कहा कि उनके पति ने हाल में एक राजस्वकर्मी को 70 हजार रुपये देकर गांव के कुछ लोगों को झूठे मामले में फंसाने की साजिश भी रची है। इस मामले में जिलाधिकारी अखिलेश मिश्रा ने कहा- शिकायत की जांच जिला पंचायतराज अधिकारी को सौंपी गई है। जांच रिपोर्ट के आधार पर ही उचित कार्रवाई होगी। फिलहाल ग्राम पंचायत के खाते सस्पेंड कर दिए गए हैं।

हमारा न्यूज़ चैनल सबस्क्राइब करने के लिए यहाँ क्लिक करें।
Follow us on Facebook http://facebook.com/HamaraGhaziabad
Follow us on Twitter http://twitter.com/HamaraGhaziabad