ताज़ा खबर :
prev next

स्वामी विवेकानन्द की जन्म तिथि को विश्व युवक दिवस के रूप मनाएगा विश्व : रामनाइक

भारत के गौरव, महान चिंतक, विचारक, प्रेरणता व वक्ता स्वामी विवेकानन्द की 12 फुट ऊंची प्रतिमा व शहीद धनसिंह कोतवाल की प्रतिमा का लोर्कापण चैधरी चरण सिह विश्वविद्यालय मेरठ के परिसर में राज्यपाल उप्र रामनाइक व उप मुख्यमंत्री उप्र सरकार डॉ. दिनेश शर्मा ने किया। वहीं विश्वविद्यालय परिसर के बृहस्पति भवन में आयोजित कार्यक्रम में उन्होंने 860 किलोवाॅट के सौर ऊर्जां संयत्र के प्रथम चरण का शुभारम्भ व पं. दीन दयाल उपाध्याय शोध पीठ द्वारा प्रकाशित पुस्तकों का विमोचन किया।

राज्यपाल ने कहा कि यहां आकर उन्हें प्रसन्नता हुई है तथा यह स्वर्णिम दिवस है। उन्होंने कहा कि दो महान पुरूषों की प्रतिमाओं का लोर्कापण व सौर ऊर्जा संयत्र के शुभारम्भ से तीन महत्वपूर्ण कार्यो को करके ऐसा प्रतीत होता है मानों त्रिवेणी संगम हुआ हो। उन्होंने कहा कि महानपुरूषों की प्रतिमाओं के लोर्कापण से युवा पीढी व आमजन में नई चेतना का संचार व अनुभव होगा। उन्होंने कहा कि उन्होंने गत दो सालों में सभी विश्वविद्यालय में दीक्षान्त समारोह का आयेाजन कराया है तथा विश्वविद्यालय को दीक्षान्त समारोह कराने की तिथियां दी है। उन्होंने बताया कि चैघरी चरण सिंह विश्वविद्यालय का अगला दीक्षान्त समारोह, 24 सितम्बर 2018 को होगा। उन्होंने कहा कि, विश्वविद्यालय के कलैण्डर में परिवर्तन लाने का प्रयास किया जा रहा है।

उन्होंने कहा कि, स्वामी विवेकानन्द ने भारत और भारतीयता का परिचय पूरे विश्व के सामने रखा, वह विलक्ष्ण प्रतिभा के धनी थे तथा एक महान संत होने के साथ-साथ देशभक्त, वक्ता, विचारक, लेखक, मानवता प्रेमी थे। उनका जन्म 12 जनवरी 1863 को व मृत्यु 4 जुलाई 1902 को हुईं। उन्होंने छोटे से जीवनकाल में अनेकों कार्य किये। 11 सितम्बर 1893 को शिकागों में आयोजित सर्वधर्म सभा क समय उनकी आयु मात्र 30 वर्ष की थी।

उन्होंने कहा कि, जिस समय इंग्लैण्ड व अफ्रिका में होटल के बाहर बोर्ड लगाये जाते थे कि भारतीय व जानवर का प्रवेश वर्जित हैं, इतनी अवहेलना भारतीयों की होती थी। ऐसे समय में 30 साल के स्वामी विवेकानन्द ने अपने व्यवहार व विचारो से भारत की विशेषता दुनिया को बतायी कि विश्च एक परिवार है। उन्होंने कहा कि जब आमजन, शिक्षक व विद्याार्थी स्वामी विवेकानन्द की प्रतिमा को देखेंगे तो उन्हें यह प्रेरणा मिलेगी कि हमें अपने देश, गांव व समाज के लिये क्या करना है।

उन्होंने कहा कि स्वामी विवेकानन्द कहते थे कि मुझे एक हजार युवक दे दो तो मैं देखते देखते भारत का चित्र बदल दूंगा। उन्होंने कहा कि मा. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने यूएनओ (संयुक्त राष्ट्र संघ) में योग पर विचार रखा, उसके बाद यूएनओं ने अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस मनाने का निर्णय लिया। उन्होंने बताया कि यूएनओं ने अभी हाल में निर्णय लिया है कि स्वामी विवेकानन्द की जन्म तिथि 12 जनवरी को विश्व युवक दिवस के रूप में मनाया जाएगा।

उन्होंने कहा कि स्वामी विवेकानन्द के विचार व हमारा आचरण कैसे मिलता है हमें सोचना चाहिए। उन्होंने कहा कि संसद के प्रवेश द्वार पर संस्कृत में लिखे श्लोक का अर्थ है कि यह मेरा है यह तेरा है यह सोच छोटे दिलवालों की होती है। उन्होंने कहा कि हमे इससे प्रेरणा लेनी चाहिए। उन्होंने कहा कि प्रतिमा के साथ-साथ विश्वविद्यालय को अपने वाचनालय में उनसे सम्बंधित पुस्तकों को भी रखना चाहिए ताकि युवा पीढी उनसे प्रेरणा ले सके।

उन्होंने कहा कि, मेरठ को लोग 1857 की क्रान्ति के उदगम स्थल के रूप में जानते है। लेकिन शहीद धनसिंह कोतवाल के कृत्यों से लोग उनके नाम से भी मेरठ को जानते है। उन्होंने कहा कि सौर ऊर्जा संयत्र के प्रथम चरण का शुभारम्भ हुआ है इस पर विश्वविद्यालय का कोई व्यय नहीं हुआ है। इससे पर्यावरण प्रभावित नहीं होगा। सौर ऊर्जा बनने के बाद उसकी प्रति यूनिट लागत 3.91 रूपये होगी तथा जो विद्युत हमें उपलब्ध होती है उसकी कीमत 07.70 रूपये प्रति यूनिट होती है। इस प्रकार हर यूनिट पर 3.79 रूपये की बचत होगी। उन्होंने विश्वविद्यालय के अधिकारियों से कहा कि वह इस बचत को अच्छें कार्यो पर व्यय करें।

उन्होंने कहा कि मेरे संस्मरणों पर एक पुस्तक है जिसका नाम चरैवेति-चरैवेति है इसका प्रकाशन मराठी भाषा में किया गया बाद में हिन्दी, उर्दू, अंग्रेजी व गुजराती भाषा में भी इसका प्रकाशन किया गया है। उन्होनें कि जो व्यक्ति बैठ जाता है उसका भाग्य बैठ जाता है जो खड़ा है उसका भाग्य खड़ा हो जाता है, जो सोया है उसका भाग्य सो जाता है तथा जो चलता है उसका भाग्य चलता है, इसलिए जीवन मे सदैव चलते रहना चाहिए यही चरैवेति का अर्थ है।

उप मुख्यमंत्री डॉ. दिनेश शर्मा ने कहा कि आज का दिन सौभाग्यशाली दिन है उन्होंने कहा कि विदेशों में बोला जाता था कि भारत के बारे में जानना चाहते है तो विवेकानन्द का जीवन दर्शन पढ लों। उन्होंने शहीद धन सिंह कोतवाल की प्रतिमा के लोर्कापण को महत्वपूर्ण बताते हुए कहा कि अंग्रेजों के विरूद्ध पूरा थाना तथा जो लोग उनके सम्पर्क में आते थे वह अंग्रेजों के विरूद्ध बिगुल बजाने लगे। उन्होंने कहा कि महानपुरूषों का दर्शन किसी तीर्थ स्थान पर जाने से कम नहीं होता है।

उन्होंने किसान नेता चैधरी चरण सिंह को नमन करते हुए कहा कि प्रधानमंत्री ने किसानों की आय दुगनी करने के प्रयास किये है तथा किसानों को फसल के समर्थन मूल्य का डेढ़ गुना देने को कहा है। उन्होंने कहा कि पं. दीन दयाल उपाध्याय की सोच थी कि समाज के निचले व निर्बल स्तर के व्यक्ति के लिए कार्य किये जायें तथा इसके लिए समर्द्ध व समर्थ लोगो को आगे आकर सहायता करनी चाहिए। जिस प्रकार कुएं में गिरे व्यक्ति को ऊपर लाने के लिए झुकना पड़ता है।

उन्होंने कहा कि गत एक वर्ष में 185 विद्यालय खोले व संचालित किये गये तथा वर्तमान सरकार से पूर्व 15 वषों में मात्र 48 विद्यालय ही खुल पाये। उन्होंने कहा कि राज्यपाल ने दीक्षान्त समारोह का समय निर्धारित किया व विश्वविद्यालय में मार्कशीट को आॅनलाइन व कम्प्यूटर लैब व विश्वविद्यालय में वाई फाई सुविधा, शोध कार्यो को पोर्टल पर अपलोड किया जाना आदि निर्देश दिये जिस पर कार्य चल रहा है। प्रदेश के 14 विश्वविद्यालय में पं. दीन दयाल उपाध्याय शोध पीठ की स्थापना की गयी।

उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालय की परीक्षा नकलविहीन होगी तथा पिछली परीक्षा में जो खामियां रही है उनको इस बार दूर किया जाएगा तथा बताया कि स्व-केन्द्र परीक्षा नहीं होगी सीसीटीवी कैमरे आवश्यक रूप से लगायें जाएंगे व स्टैटिक मजिस्ट्रेट की तैनाती भी करायी जाएगी साथ ही विश्वविद्यालय में नये प्रवेश को आधार कार्ड से लिंक किया जाएगा। उन्होंने कहा कि, विश्वविद्यालय में पठन पाठन का कार्य समय से प्रारम्भ हो इसके निर्देश दिये गये जिसके फलस्वरूप तीन विश्वविद्यालय को छोड़कर शेष में पठन पाठन का कार्य 10 जुलाई से शुरू हो गया है शेष तीन में 16 जुलाई से प्रारम्भ हो जाएगा।

इस अवसर पर कुलपति एन के तनेजा व प्रति कुलपति एचएस सिंह ने सभी का आभार व्यक्त किया तथा बताया कि सौर ऊर्जा संयत्र के प्रथम चरण में आज 860 किलो वाॅट का शुभारम्भ किया गया। इसके 1450 किलो वाॅट तक करने की प्रक्रिया चालू है जिसको एक सप्ताह में पूर्ण कर प्रारम्भ किया जाएगा

इस अवसर पर सासंद राजेन्द्र अग्रवाल, सांसद कान्ता कर्दम, विधायक सोमेन्द्र तोमर, सत्य प्रकाश अग्रवाल, ललित कला एकाडमी के चेयरमैन उत्तर पाचारणे, छात्र कल्याण अधिष्ठाता की वाय विमला, जिलाध्यक्ष शिव कुमार राणा, महानगर अध्यक्ष करूणेश नन्दन गर्ग, दर्शन लाल अरोड़ा विनीत कुमार शारदा, जिलाधिकारी अनिल ढींगरा, एसएसपी राजेश कुमार पाण्डेय सहित अन्य माननीय, गणमान्य लोग, शिक्षकगण व छात्र-छात्रायें उपस्थित रहे।

हमारा न्यूज़ चैनल सबस्क्राइब करने के लिए यहाँ क्लिक करें।
Follow us on Facebook http://facebook.com/HamaraGhaziabad
Follow us on Twitter http://twitter.com/HamaraGhaziabad

Subscribe to our News Channel