ताज़ा खबर :
prev next

दर्दनाक हादसा – ग्रेटर नोएडा में दो बिल्डिंग गिरी, मलबे से निकाले जा रहे शव, 3 लोग गिरफ्तार

ग्रेटर नोएडा, ग्रेनो वेस्ट स्थित शाहबेरी गांव में खेत की जमीन पर काटी गई कॉलोनी में मंगलवार रात दर्दनाक हादसा हुआ। यहां 6 और 7 मंजिल की दो बिल्डिंग गिर गईं। बिल्डिंग के मलबे में कई लोगों के दबे होने की आशंका है। एनडीआरएफ की टीम पुलिस और फायर बिग्रेड लोगों की मदद से राहत और बचाव कार्य में जुटी हैं।

इस बीच NDRF की टीम ने 3 शवों को मलबे से निकाल लिया है। रेस्क्यू ऑपरेशन अभी जारी है। केंद्रीय मंत्री महेश शर्मा घटनास्थल पर पहुंचे। उन्होंने कहा कि लोगों की जान बचाना हमारी प्राथमिकता है। एनडीआरएफ की 4 टीम के साथ डॉग स्क्वॉड की टीम भी मौके पर बचाव कार्य में जुट गई है। इस घटना के सिलसिले में तीन लोगों को गिरफ्तार कर लिया गया है।
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस मामले का संज्ञान लिया है। उन्होंने जिलाधिकारी से बात कर कहा है कि एनडीआरएफ और पुलिस की मदद से तुरंत राहत और बचाव कार्य को अंजाम दिया जाए।

बताया जा रहा है एक बिल्डिंग में कुछ परिवार रहते थे और दूसरी में कुछ अन्य समेत लगभग 30-40 लोग मौजूद थे। लोग हादसे की वजह मानकों से कम निर्माण सामग्री और कम मंजिल की अनुमति के बाद अधिक मंजिलें खड़ी करना बता रहे हैं।

बिसरख कोतवाली क्षेत्र के ग्रेटर नोएडा वेस्ट में शाहबेरी गांव के खेत में कुछ वर्ष पूर्व कॉलोनी काटी गई। बताया गया है कि इसी भूमि पर बिल्डरों ने कई मंजिलों भवनों का निर्माण शुरू कर दिया। यहीं पर एक 6 मंजिला बिल्डिंग निर्माणाधीन थी। यह बिल्डिंग मंगलवार रात लगभग 9.30 बजे करीब स्थित सात मंजिला तैयार मंजिल पर बिल्डिंग पर गिर पड़ी। इससे दोनों बिल्डिंग धराशायी हो गई।

बताया गया है कि 7 मंजिला बिल्डिंग में कुछ परिवार रहे थे और निर्माणाधीन बिल्डिंग में भी कुछ लोग हुए मजदूर मौजूद थे लोगों के मलबे में दबे होने के कारण संख्या का पता नहीं चल पाया। हालांकि, वहां मौजूद लोग 30 से 40 लोगों के दबे होने की आशंका जता रहे हैं। सूचना मिलने पर बिसरख कोतवाली पुलिस मौके पर पहुंच गई कुछ देर बाद फायर बिग्रेड भी पहुंची। रात लगभग 11.00 बजे गाजियाबाद से एनडीआरएफ की टीम भी विभिन्न उपकरणों को लेकर मौके पर पहुंचकर राहत बचाव कार्य में जुट गई।

मलबा उठाने के लिए जेसीबी मशीन और अन्य उपकरण पहुंचने में देरी हुई इससे राहत और बचाव कार्य में देरी होने के कारण लोगों में गुस्सा दिखाई दिया और वह पुलिस प्रशासन पर आरोप लगाते दिखाई दिए। हादसा स्थल पर रात लगभग 11.45 बजे डॉग स्क्वायड पहुंच गया। राहत और बचाव कार्य में जुटे अधिकारी डॉग स्क्वायड का इस्तेमाल  लोगों का स्थान पता करने में कर रहे थे।

घटना की जानकारी मिलते ही मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने जिलाधिकारी बीएन सिंह को राहत व बचाव कार्य तत्पर्यता से करने के निर्देश दिए। डीजीपी ओपी सिंह ने एसएसपी समेत वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों को मौकेपर तुरंत पहुंचने का आदेश दिया।

हमारा न्यूज़ चैनल सबस्क्राइब करने के लिए यहाँ क्लिक करें।
Follow us on Facebook http://facebook.com/HamaraGhaziabad
Follow us on Twitter http://twitter.com/HamaraGhaziabad

Subscribe to our News Channel