ताज़ा खबर :
prev next

निजी अस्पताल पर लगाया इलाज न करने का आरोप

गाजियाबाद के इंदिरापुरम में स्थित शांति गोपाल अस्पताल से एक घायल के इलाज ना करने का मामला सामने आया है, जिससे उसकी मौत हो गई। आरोप है कि सेक्टर-58 कोतवाली क्षेत्र में हुए सड़क हादसे में घायल अकाउंटेंट का अस्पताल ने पैसे के अभाव में इलाज नहीं किया। तीन घंटे तक वह परिसर में तड़पता रहा। बाद में घायल को दिल्ली के जीटीबी अस्पताल के लिये रेफर किया गया। शनिवार को डीएम से मिलकर परिजन अस्पताल की लापरवाही की शिकायत कर कार्रवाई की मांग की जायेगी।

इंदिरापुरम के न्याय खंड-2 स्थित ईडब्ल्यूएस फ्लैट्स में 44 वर्षीय रामचंद्र जोशी पत्‍‌नी, 23 वर्षीय बेटी शिवानी और 20 साल के बेटे सुमित के साथ रहते थे। वह नोएडा के सेक्टर-18 स्थित एक कंपनी में अकाउंटेंट थे। उनके रिश्तेदार सागर रावत व पुष्कर ने बताया कि रोज की तरह वह शुक्रवार की सुबह नौ बजे घर से ऑफिस के लिये निकले थे। सेक्टर-58 कोतवाली क्षेत्र में एनएच-9 पर ऑटो से उतर कर दूसरा ऑटो पकड़ने जा रहे थे, तभी बाइक ने पीछे से टक्कर मार दी। घायल को बाइकसवार ने ऑटो की मदद से इंदिरापुरम स्थित शांति गोपाल अस्पताल में भर्ती कराया। लेकिन पैसे नहीं मिले तो अस्पताल ने इलाज भी नहीं किया।

परिजनों का आरोप है कि आरोपित जब घायल रामचंद्र को अस्पताल लेकर पहुंचा तो उनका सिटी स्कैन किया गया। अस्पताल कर्मियों ने सिटी स्कैन का बिल देते हुए आरोपित से पैसे मांगे। आरोपित ने जब पैसे न होने की बात कही तो डॉक्टरों ने इलाज करने की बजाय उन्हें दोपहर 1:45 बजे जीटीबी रेफर कर दिया। इस दौरान करीब तीन घंटे तक रामचंद्र की नाक और कान से लगातार खून बहता रहा और वे तड़पते रहे। जब अस्पताल में रामचंद्र की मौत हो गई तो आरोपित उनके शव को वहां छोड़कर फरार हो गया। कोतवाली गौतमबुद्ध नगर प्रभारी निरीक्षक पंकज राय ने बताया कि परिजनों की शिकायत पर रिपोर्ट दर्ज कर आरोपित बाइक सवार को गिरफ्तार कर लिया गया है। परिजन अस्पताल पर लापरवाही का आरोप लगा रहे हैं। मामला प्रशासन का है। प्रशासन से अस्पताल के खिलाफ कार्रवाई करने का निर्देश देता है, तो कार्रवाई होगी।

हमारा न्यूज़ चैनल सबस्क्राइब करने के लिए यहाँ क्लिक करें।
Follow us on Facebook http://facebook.com/HamaraGhaziabad
Follow us on Twitter http://twitter.com/HamaraGhaziabad

Subscribe to our News Channel