ताज़ा खबर :
prev next

हल्के व्यावसायिक वाहनों को चलाने के लिए कमर्शियल लाइसेन्स की जरूरत नहीं

क्या आप जानते हैं कि टैक्सी, ऑटो, ई-रिक्शा और छोटा हाथी जैसे व्यावसायिक वाहनों को चलाने के लिए अब कमर्शियल लाइसेन्स की जरूरत नहीं है। इसके अलावा खाने-पीने की चीजों की डिलीवरी के लिए दोपहिया वाहन चलाने के लिए भी निजी ड्राइविंग लाइसेंस पर्याप्त होगा। केंद्र सरकार ने कानून में संशोधन कर इन चीजों के लिए कमर्शियल लाइसेंस की अनिवार्यता खत्म कर दी है। नए नियमों के अनुसार 7500 किलोग्राम तक भार वाले वाहनों को आप निजी ड्राइविंग लाइसेंस से चला सकेंगे।
आपको बता दें कि ट्रक, बस और अन्य भारी वाणिज्यिक वाहनों के लिए कमर्शियल लाइसेंस की शर्त बनी रहेगी। सरकार के इस कदम से रोजगार के अवसरों में बढ़ोतरी होने की उम्मीद है। सड़क परिवहन मंत्रालय ने जुलाई 2017 में राज्य सरकारों को एक एडवाइजरी जारी कर इस विषय में सूचना दी थी। यह आदेश सुप्रीम कोर्ट के निर्देशों के बाद जारी हुए थे लेकिन आवश्यक प्रचार न होने के कारण आमजन इस नियम से अनभिज्ञ है।
मंत्रालय के अधिकारियों ने कहा कि इस कदम से लाखों लोगों के लिए रोजगार के मौके बढ़ सकते हैं। नए नियमों से भ्रष्टाचार में भी कमी आएगी। मंत्रालय के एक अधिकारी ने कहा, “ट्रांसपोर्ट या कमर्शियल लाइसेंस के लेनदेन में जमकर घूसखोरी होती थी। नया नियम भ्रष्टाचार को खत्म करेगा। राज्यों को वाणिज्यिक वाहन चलाने वालों के लिए बैज जारी करने की परंपरा खत्म करनी होगी।” अधिकारियों का कहना है कि इस तरह के वाहनों की ज्यादा उपलब्धता से निजी वाहनों पर निर्भरता में कमी आएगी।
परिवहन मामलों के विशेषज्ञ वासुदेव गुप्ता ने बताया कि अदालत के इस आदेश के दूरगामी परिणाम होंगे क्योंकि आदर्श स्थिति में सड़क पर एक टैक्सी चार निजी कारों का विकल्प होती है। इसी तरह एक आटोरिक्शा दर्जन भर से ज्यादा कारों का विकल्प उपलब्ध कराता है। ये सार्वजनिक वाहन लगातार चलते रहते हैं अतः इन्हें पार्किंग स्थल की भी जरूरत नहीं होती है।

हमारा न्यूज़ चैनल सबस्क्राइब करने के लिए यहाँ क्लिक करें।
Follow us on Facebook http://facebook.com/HamaraGhaziabad
Follow us on Twitter http://twitter.com/HamaraGhaziabad