ताज़ा खबर :
prev next

नहीं थम रहा है बारिश का कहर, अब तक पाँच राज्यों में हो चुकी हैं 465 मौतें

इस साल देश के कुछ इलाकों में अच्छी बारिश होने से किसानों में तो खुशी की लहर है लेकिन अनेक राज्यों में बारिश ने तबाही मचा दी है। देश के पांच राज्यों में बारिश और बाढ़ अब तक कम से कम 465 लोगों की मौत हो चुकी है। गृह मंत्रालय के नैशनल इमरजेंसी रिस्पांस सेंटर (एनईआरसी) के अनुसार बाढ़ और बारिश के चलते महाराष्ट्र में 138, केरल में 125, पश्चिम बंगाल में 116, गुजरात में 52 और असम में 34 लोगों की मौत हुई है।
इसके अलावा अतिवृष्टि और बारिश से कई जिले प्रभावित हुई हैं। इनमें महाराष्ट्र के 26, पश्चिम बंगाल में 22, असम में 21, केरल में 14 और गुजरात में 10 जिले शामिल हैं। एनईआरसी के अनुसार असम में 10.17 लाख लोग बारिश और बाढ़ से त्रस्त हैं, जिनमें से 2.17 लाख लोग राहत शिविरों में शरण लिए हुए हैं।
रिपोर्ट के अनुसार राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ़) की 12 टीम असम में राहत एवं बचाव कार्य में जुटी है। पश्चिम बंगाल में बारिश और बाढ़ से कुल 1.61 लाख लोग प्रभावित हैं। यहाँ एनडीआरएफ़ की आठ टीम तैनात की गई है। गुजरात में बाढ़ एवं बारिश से प्रभावित 15,912 लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है। यहाँ एनडीआरएफ़ की 11 टीम राहत एवं बचाव कार्य में जुटी है। केरल में 1.43 लाख लोग बाढ़ से प्रभावित हैं। भारी बारिश के कारण राज्य में 125 लोगों की मौत हुई है, जबकि नौ लोग लापता हैं। दक्षिणी राज्य में राहत एवं बचाव कार्य के लिए एनडीआरएफ़ की चार टीम तैनात की गई है, जबकि तीन टीमों को महाराष्ट्र में तैयार रखा गया है।
दिल्ली और यूपी में पिछले तीन दिन से जारी जोरदार बारिश ने आम जनजीवन अस्त-व्यस्त कर दिया है। यूपी में बारिश, आंधी और बिजली गिरने से 58 लोगों की मौत हो गई है वहीं, दिल्ली में यमुना नदी खतरे के निशान से ऊपर बह रही है, जिससे निचले इलाकों में बाढ़ का खतरा बढ़ गया है। शनिवार को करीब 11 बजे हथिनीकुंड बैराज से करीब 3,11,190 क्यूसेक पानी छोड़े जाने के बाद यह खतरा और बढ़ गया है। वहीं उत्तराखंड में भी कई नदियां उफान पर हैं।

हमारा न्यूज़ चैनल सबस्क्राइब करने के लिए यहाँ क्लिक करें।
Follow us on Facebook http://facebook.com/HamaraGhaziabad
Follow us on Twitter http://twitter.com/HamaraGhaziabad