ताज़ा खबर :
prev next

शाबाश इंडिया – ऑटो चालक ने लौटाए सवारी के ₹4 लाख

हमारा गाज़ियाबाद का प्रयास रहा है कि दिन भर कि खबरों के बीच आपको कुछ ऐसी खबरें भी पढ़ने को मिले जिनसे कुछ अच्छा करने की प्रेरणा मिलिए। इसी कड़ी में आज आपका परिचय हम गुजरात अहमदाबाद के एक ऐसे ऑटो चालक से कराने जा रहे हैं जिन्होंने एक महिला के 4 लाख रुपए लौटकर ईमानदारी की मिसाल कायम की।
दरअसल, राजस्थान के जोधपुर से ताल्लुक रखने वाली प्रेमलता गहलोत (61 वर्षीय) दिल की मरीज हैं। जिसके चलते वे बीते मंगलवार अहमदाबाद के थलतेज में एक प्राइवेट अस्पताल में अपने पति के साथ इलाज़ के लिए आयी थीं। रनिप बस स्टैंड पर उतर कर वे नानजी नयी के ऑटो-रिक्शा में बैठ कर होटल गए थे। लेकिन प्रेमलता 4 लाख रुपयों से भरा हुआ बैग नानजी के ऑटो में ही भूल गयी थीं। जब होटल जाने पर उन्हें इस बात का अहसास हुआ तो उनका दिल बैठ गया।
प्रेमलता ने कहा, “हम उस जगह वापिस गए और उस ऑटो-ड्राइवर को ढूंढने लगे, इसके बाद हम वस्त्रापुर पुलिस स्टेशन गए। इस उम्मीद में कि हमें हमारे पैसे शायद मिल जाये।” इधर, जब नानजी (52 वर्षीय) ने अपना ऑटो साफ़ किया तो उन्हें बैग मिला। जिसमें इतने पैसे देखकर वे दंग रह गए। उन्होंने बताया, “मुझे तुरंत समझ में आ गया था कि यह पैसे उसी महिला के हैं जिसे मैंने होटल छोड़ा था। मैं अपने बेटे और दामाद के साथ तुरंत वस्त्रापुर पुलिस स्टेशन गया। सौभाग्य से वे महिला और उनके पति मुझे वहीं मिल गए। और मैंने तुरंत पैसे वापिस कर दिए।” नानजी पिछले 25 सालों से ऑटो-रिक्शा चला रहे हैं। प्रेमलता ने कहा कि यदि उन्हें पैसे नहीं मिलते तो शायद उनका जीवन खतरे में आ जाता। क्योंकि यह पैसे उनके इलाज़ के लिए थे। हम नानजी की ईमानदारी की सराहना करते हैं और उम्मीद करते हैं कि बहुत से लोग उनसे प्रेरणा लेंगे।

हमारा न्यूज़ चैनल सबस्क्राइब करने के लिए यहाँ क्लिक करें।
Follow us on Facebook http://facebook.com/HamaraGhaziabad
Follow us on Twitter http://twitter.com/HamaraGhaziabad