ताज़ा खबर :
prev next

रैपिड रेल – दिल्ली से मेरठ का सफर होगा एक घंटे में तय, गाज़ियाबाद में होंगे 7 स्टेशन

कामकाज के सिलसिले में गाजियाबाद, मेरठ और आसपास के शहरों से दिल्ली जाने वालों के लिए खुशखबरी है। दिल्ली से मेरठ को जोड़ने वाली रैपिड रेल सिस्टम की तैयारियों को अब अंतिम रूप दिया जा रहा है। गाज़ियाबाद जिले में रैपिड रेल के सात स्टेशन प्रस्तावित हैं जिन्हें जिलाधिकारी रितु माहेश्वरी की सहमति मिल गई है। इस प्रोजेक्ट के लिए के 10 गांव के किसानों की जमीन सीधी खरीदी जाएगी जिसमें प्रशासन की कोई भूमिका नहीं रहेगी। रैपिड रेल चालू हो जाने के बाद, दिल्ली से मेरठ तक का सफर एक घंटे में पूरा किया जा सकेगा।
आपको बता दें कि नेशनल कैपिटल रीजनल ट्रांसपोर्ट कॉरपोरेशन (एनसीआरटीसी) के अधिकारी रैपिड रेल के निर्माण कार्य शुरू करने की तैयारी में जुट गए है। कांवड़ यात्रा बाद इस प्रोजेक्ट पर काम शुरू होना है इसके लिए मेरठ तिराहे से दुहाई तक सड़क का चौड़ीकरण कर दिया गया। मिट्टी की जांच पहले ही पूरी हो गई है। इसी सिलसिले में जिलाधिकारी के साथ एनसीआरटीसी की बैठक में महत्वपूर्ण निर्णय लिए गए। रैपिड रेल का काम शुरू होने से पहले जिलाधिकारी को प्रजटेंशन देकर अवगत कराया और डीएम की अंतिम सहमति ली गई।
रैपिड रेल के लिए दस गांव के किसानों की जमीन खरीदी जाएगी। खास बात यह है कि जमीन सीधे किसानों से ली जाएगी। प्रशासन के माध्यम से जमीन का अधिग्रहण नहीं होगा। प्रशासन का काम सिर्फ मुआवजे से जुड़ा होगा। इसके लिए जिलाधिकारी ने अपर जिलाधिकारी (भू अध्यापित) की अगुवाई में कमेटी का गठन कर दिया गया है। जिलाधिकारी रितु माहेश्वरी ने बताया, ‘एनसीआरटीसी अधिकारियों के साथ वार्ता हो चुकी हैं। कई निर्णय को अंतिम रूप से सहमति दे दी गई। किसानों की समस्या के समाधान के लिए कमेटी का गठन भी कर दिया गया है।’
दिल्ली सराय काले खां से मोदीपुरम तक 92 किमी लंबी रैपिड रेल का कॉरिडोर बनाया जाना है। गाजियाबाद क्षेत्र में साहिबाबाद (इंडस्ट्रियल एरिया चौराहे से पहले), नया बस अड्डा (मेरठ तिराहे के पास), गुलधर (विकासनगर के सामने), दुहाई (बाबा बनारसी दास इंस्टीट्यूट एंड टेक्नालाजी के सामने), मुरादनगर (इंडियन ऑयल पेट्रोल पंप के सामने), मोदीनगर नॉर्थ (आईसीआईसीआई बैंक के सामने) और मोदीनगर साउथ (मोदी गार्डन के सामने) स्टेशन बनाए जाने हैं।
जिलाधिकारी ने बताया कि मेरठ और गाजियाबाद में रैपिड रेल के दो डिपो बनाए जाने हैं। बंसतपुर सैंथली में जमीन नहीं मिल सकी। अब दुहाई में डिपो बनना फाइनल हो गया।

हमारा न्यूज़ चैनल सबस्क्राइब करने के लिए यहाँ क्लिक करें।
Follow us on Facebook http://facebook.com/HamaraGhaziabad
Follow us on Twitter http://twitter.com/HamaraGhaziabad