ताज़ा खबर :
prev next

पर्यावरण को बचाने के लिए यूपी का यह महंत बना रहा है कागज के पैन

भारत में प्राचीन काल से ही ऋषियों, मुनियों और महंतो का पर्यावरण संरक्षण की दिशा में महत्वपूर्ण योगदान रहा है। सदियों पुरानी इसी परंपरा को कायम रखते हुए राय बरेली उत्तर प्रदेश स्थित खण्डेश्वरी आश्रम के महंत कृष्ण बिहारी ने कागज से पैन बनाने का काम शुरू किया है।
दलमाउ गाँव में बने इस आश्रम के महंत कृष्ण बिहारी ने बताया कि पर्यावरण को प्लास्टिक से होने वाले नुकसान को देखकर मुझे बहुत दुख होता था। मैं हमेशा से ही आम जनजीवन में प्लास्ट के उपयोग को कम करने के लिए प्रयासरत रहा हूँ। पैन एक ऐसा उत्पाद है जिसे हर कोई इस्तेमाल करता है। आजकल बाजार में प्लास्टिक के बने यूस एंड थ्रो वाले पैन आते हैं जिन्हें नष्ट होने में शायद सैंकड़ों साल का समय लगे। मैंने यही सोचकर रद्दी कागज से पैन बनाने का विचार किया जिससे पर्यावरण को कम से कम नुकसान पहुंचेगा।
महंत बिहारी ने बताया कि रद्दी कागज से बने पैनों को हम मुफ्त में बांटते हैं, लेकिन अब बहुत सी संस्थाओं और व्यक्तियों ने हमसे पैन खरीद कर बांटने शुरू कर दिए हैं। बहुत से पर्यावरण प्रेमी हमारे इस प्रोजेक्ट को बड़े स्तर पर करने के लिए आवश्यक धन उपलब्ध कराने के लिए भी तैयार हो गए हैं।
उन्होंने बताया कि हमारे आश्रम में हर रोज दर्जनों पर्यावरण प्रेमी और स्वयंसेवक आते हैं और पुराने अखबारों की रद्दी से पैन बनाने में सहयोग करते हैं। ऐसे ही एक पर्यावरण प्रेमी अरविंद गुप्ता ने बताया कि अभी तक हम केवल 400 पैन ही बना पाये हैं। लेकिन अगर हमें वित्तीय सहायता मिले तो हम इसे कुटीर उद्योग के रूप में शुरू करने के लिए तैयार हैं जिससे कई बेरोजगार महिलाओं को रोजगार मिल सकता है।

हमारा न्यूज़ चैनल सबस्क्राइब करने के लिए यहाँ क्लिक करें।
Follow us on Facebook http://facebook.com/HamaraGhaziabad
Follow us on Twitter http://twitter.com/HamaraGhaziabad