ताज़ा खबर :
prev next

900 टन कचरे से प्रतिदिन बनेगी 10 मेगावाट बिजली

गाज़ियाबाद के गालंद में करीब 200 करोड़ रुपये की लागत से बनने वाले वेस्ट टु एनर्जी प्लांट से 10 मेगावाट बिजली पैदा होगी। इसके लिए नगर निगम डीपीआर का स्टडी कर रहा है। जल्द ही इसे शासन के पास मंजूरी के लिए भेजा जाएगा।

गालंद में 35 एकड़ जमीन पर वेस्ट टु एनर्जी प्लांट लगना है। पहले इसे 15 मेगावॉट बिजली बनाने के हिसाब से डिजाइन किया गया था। लेकिन कंपनी ने 10 मेगावाट के लिए ही डीपीआर तैयार की है। कंपनी का कहना है कि शहर से जो कूड़ा निकलता है, उसमें मानक के अनुसार ऑयल कम है। ऐसे में हर रोज निकलने वाले करीब 900 मीट्रिक टन कूड़े से केवल 10 मेगावाट बिजली ही बनाई जा सकती है।

नगर आयुक्त सीपी सिंह ने बताया कि, डीपीआर की स्टडी 15 अगस्त तक पूरी कर ली जाएगी। इसके बाद निगम  इस रिपोर्ट को यूपी सरकार की मंजूरी के लिए लखनऊ भेजेगा। निगम का दावा है कि अगर इसी माह मंजूरी मिल गई तो सितंबर से प्रॉजेक्ट पर काम शुरू हो जाएगा। प्लांट लगाने में कंपनी को 6-8 महीने का समय लगेगा।

वहीं, कंपनी का कहना है कि कूड़े में करीब 40 फीसदी हिस्सा ऐसा होता है, जिसे रिसाइकल नहीं किया जा सकता। ऐसे में नगर निगम के अलावा आसपास के नगर निकायों के यहां से भी कूड़ा लिया जाएगा।

हमारा न्यूज़ चैनल सबस्क्राइब करने के लिए यहाँ क्लिक करें।
Follow us on Facebook http://facebook.com/HamaraGhaziabad
Follow us on Twitter http://twitter.com/HamaraGhaziabad

Subscribe to our News Channel