ताज़ा खबर :
prev next

यूपी सहायक शिक्षक भरती परीक्षा – परिणाम में निकली गलती तो हुई नियामक प्राधिकारी की छुट्टी

यूपी सरकार ने राज्य में 68500 सहायक अध्यापकों की भर्ती के नतीजों में गड़बड़ी की खबरें आने के बाद बड़ी कार्रवाई की है। नियामक प्राधिकारी सुत्ता सिंह को निलम्बित कर दिया गया है। इसके साथ ही सचिव संजय सिंह को भी उत्तर प्रदेश बेसिक शिक्षा परिषद के पद से हटा दिया गया है। संजय सिंह की जगह अब अनिल भूषण को सचिव बनाया गया है। अनिल भूषण को परीक्षा नियामक का सचिव बनाया गया है। परिषद के सचिव का चार्ज रूबी सिंह को और अजय कुमार को रजिस्ट्रार बनाया गया है। प्रमुख सचिव गन्ना एवं चीनी उद्योग संजय भूसरेड्डी की अध्यक्षता में जांच कमेटी बनाई गई है।
आपको बता दें कि 68500 शिक्षक भर्ती परीक्षा का परिणाम 13 अगस्त को घोषित होने के बाद से ही उसमें सम्मिलित अभ्यर्थी सवाल उठा रहे हैं।सहायक अध्यापक भर्ती की लिखित परीक्षा के परिणाम में 41,556 अभ्यर्थी चयनित हुए थे। परिणाम में गड़बड़ी की जांच के लिए सचिव सुत्ता सिंह ने भी कमेटी गठित की थी। इसमें रजिस्ट्रार, डिप्टी रजिस्ट्रार और दो शिक्षक शामिल थे।
परीक्षा नियामक प्राधिकारी कार्यालय ने दो ऐसे अभ्यर्थियों को सफल घोषित कर दिया जो परीक्षा में शामिल ही नहीं हुए थे। यही नहीं, परीक्षा में फेल कुल 23 अभ्यर्थियों को पास कर दिया गया। इन 23 में से 20 अभ्यर्थियों ने शिक्षक भर्ती के लिए ऑनलाइन आवेदन किया था और इन्हें जिलों का आवंटन भी हो गया। मंगलवार को गड़बड़ी का खुलासा होने के बाद विभाग में हड़कम्प मच गया था।
आननफानन में जिन जिलों में इन 20 फेल अभ्यर्थियों को भेजा गया था वहां के बेसिक शिक्षा अधिकारियों को पत्र भेजकर इन्हें नियुक्ति पत्र जारी करने से रोक दिया गया है। जिन जिलों में इन फेल अभ्यर्थियों का आवंटन हुआ था उनमें मैनपुरी, अलीगढ़, बाराबंकी, सीतापुर, देवरिया, कुशीनगर, महाराजगंज, बलरामपुर, मुरादाबाद, जौनपुर, चित्रकूट, बुलंदशहर, गोंडा और मेरठ शामिल हैं।
गुरुवार को सुत्ता सिंह ने कहा था कि छात्रों और शासन स्तर से परिणाम जल्दी जारी करने के लिए दबाव बनाए जाने के चलते ज्यादातर गड़बड़ियां हुई हैं। क्रॉसचेक करने के लिए थोड़ा और वक्त मिल जाता तो ऐसी स्थिति सामने नहीं आती। 122 नंबर पाने वाले अभ्यर्थी को 22 नंबर मिलने पर सुत्ता सिंह ने कहा कि ऐसी गड़बड़ी कॉपी से अंक शीट पर नंबर चढ़ाने के दौरान हुई है। 23 असफल अभ्यर्थियों को सफल होने का प्रकरण भी कुछ इसी तरह से हुआ है। महिला अभ्यर्थी की कॉपी बदलने का प्रकरण सामने आने के बाद जब एजेंसी ने रिजल्ट की जांच की तो यह मामला सामने आया, जिसके बाद नियुक्ति पत्र जारी करने से रोका गया। शिक्षकों की भरती परीक्षा का परिणाम संशोधित कर इस महीने के अंत तक जारी किया जाएगा। इसके बाद जो अभ्यर्थी सफल होंगे, उनकी अलग से काउंसिलिंग कराकर नियुक्ति पत्र जारी किया जाएगा।

#DigitalNews, #HindiDigital, #India, #UttarPradesh, #Mission2018, #Congress, #WhatsApp, #Facebook, #Twitter, #AAP, #VishalPandit, #RahulGandhi, #NarendraModi, #UrbanNaxal
व्हाट्सएप के माध्यम से हमारी खबरें प्राप्त करने के लिए यहाँ क्लिक करें।

हमारा न्यूज़ चैनल सबस्क्राइब करने के लिए यहाँ क्लिक करें।
Follow us on Facebook http://facebook.com/HamaraGhaziabad
Follow us on Twitter http://twitter.com/HamaraGhaziabad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *