ताज़ा खबर :
prev next

बागपत में एक ही मुस्लिम परिवार के 13 लोगों ने अपनाया हिन्दू धर्म

पश्चिमी उत्तर प्रदेश के बागपत जिले में पुलिस की कार्यप्रणाली और हत्या के मामले में सही जांच न होने से परेशान एक ही परिवार के 13 लोगों ने हिन्दू धर्म अपना लिया है। हालांकि इस परिवार के 20 लोगों ने एसडीएम बड़ौत को अपने शपथ पत्र सौंपे थे लेकिन मंगलवार को इनमें से सिर्फ 13 लोगों ने ही हवन पूजन में शामिल होकर अपना नामकरण संस्कार कराया। खास बात यह है कि हिंदू नामकरण होने के साथ ही इन सभी ने भगवान शिव जी का जलाभिषेक भी किया।
हिंदुस्तान टाइम्स के मुबाटिक छपरौली थाना क्षेत्र के बदरखा निवासी अख्तर अली पिछले छह-सात माह से बागपत कोतवाली क्षेत्र के निवाड़ा गांव के खुब्बीपुरा मोहल्ला में रह रहा है। बताया जाता है कि गत 22 जुलाई 2018 गुलहसन उर्फ गुलजार पुत्र अख्तर अली का निवाड़ा स्थित दुकान में लाश मिली थी। अख्तर का कहना है कि उसके बेटे की हत्या हुई थी। आरोप है कि आत्महत्या का रूप देने के लिए शव फांसी पर लटका दिया गया था। बार-बार गुहार के बावजूद पुलिस ने भी इसे विवेचना में आत्महत्या मान लिया। बागपत कोतवाली पुलिस से उन्हें न्याय नहीं मिला। इसी से क्षुब्ध होकर उन्होंने अपनी स्वेच्छा से एसडीएम को शपथ पत्र देकर हिंदू धर्म स्वीकार की है।
सूत्रों के अनुसार मंगलवार को बदरखा के शिव मंदिर में उनका नामकरण संस्कार हुआ। वहां पर अख्तर समेत उनके परिवार के 13 लोगों ने हिंदू रिति रिवाज के अनुसार विधिवत रूप से हिंदू धर्म स्वीकार किया। इन सभी ने गायत्री मंत्र का उच्चारण कर हवन में आहूतियां दी। यज्ञ में ब्रह्मा के रूप में रवि शर्मा व हरिओम उनका नामकरण संस्कार किया। नौशाद, इरशाद व दिलावर यज्ञमान बने। हवन के बाद सभी ने शिव भगवान का जलाभिषेक किया। इस दौरान गांव व युवा हिंदू वाहिनी के कार्यकर्ता मौजूद रहे। इस अवसर पर हिंदू युवा वाहिनी भारत के प्रदेश अध्यक्ष शौकिन्द्र खोखर जिलाध्यक्ष योगेन्द्र तोमर, राजकुमार प्रधान, राजीव सिंह,राजबीर, नरेश, भवर सिंह, इलम सिंह, बलधारी, रामनिवास, योगेन्द्र, बिजेन्द्र, बीरसैन,अजब सिंह, देशपाल, कविन्द्र,प्रेमपाल, सुबोध, दीपक,रामकुमार आदि थे।
घटना के बाद एएपी राजेश कुमार श्रीवास्तव ने बदरखा गांव पहुंचे। वहां अख्तर से धर्म सिंह बने गुलहसन के पिता से बात की। उन्होंने सारे घटना क्रम की जानकारी ली। आश्वासन दिया कि घटना की जांच कर निष्पक्ष कार्रवाई की जाएगी।

मुस्लिम समाज में है भारी रोष
बदरखा गांव में मंगलवार को मुस्लिम समाज के लोगों की एक पंचायत हुई, जिसमें पहुंचे जौला के ग्रामीणों ने कहा कि उनकी बेटी धर्म परिवर्तन नहीं करेगी। अगर उसे मजबूर किया तो वह अपनी बेटी को अपने साथ ले जाएंगे। अख्तर के बेटे नौशाद की पत्नी रुकया जौला गांव की रहने वाली है। रुकया के मायके वालों को जब इस बात की जानकारी हुई कि नौशाद का परिवार हिंदू धर्म स्वीकार कर रहा है और उनकी बेटी का भी धर्म परिवर्तन कराया जा रहा है।
मंगलवार को ही रुकया के मायके वाले वहां पर पहुंच गए। वहां पर उन्होंने मुस्लिम समाज के लोगों की पंचायत की। उसमें उन्होंने कहा कि अख्तर के परिवार का आरोप गलत है कि उनकी किसी ने मदद नहीं की। वह उनके साथ खड़े थे। उनका धर्म परिवर्तन का फैसला गलत है। अगर अख्तर का परिवार धर्म परिवर्तन करने से नहीं मनाता तो वह अपनी बेटी रुकया को धर्म परिवर्तन करने नहीं देंगे। अगर उसका धर्म परिवर्तन कराया तो वह अपनी बेटी को अपने साथ ले जाएंगे। इस मौके पर यामीन, राशीद, लतीफ, उस्मान, असगर, याकूब, दिलशाद, सुमेर आदि थे।
हिन्दू समाज बनेगा न्याय दिलाने में सहायक
उधर अख्तर के परिवार द्वारा धर्म परिवर्तन कर हिंदू धर्म स्वीकार किए जाने पर बदरखा का हिंदू समाज उनके साथ खड़ा हो गया है। बदरखा के रहने वाले ओमवीर सिहं का कहना था कि अख्तर के परिवार के साथ हिंदू समाज के लोग खड़े है। उन्हें इंसाफ दिलाने के लिए उनके साथ कंधे से कंधा मिलाकर खड़े है। वह उनके फैसले का स्वागत करते है। महेन्द्र सिंह का कहना था कि अख्तर के परिवार ने हिंदू धर्म स्वीकार कर लिया। उनका यह फैसला स्वागत योग्य है। हिंदू समाज उनके साथ है। उनके बेटे की हत्या के मामले में इंसाफ के लिए अधिकारियों से वार्ता की जाएगी। उधम सिंह का कहना था कि अख्तर के परिवार को इंसाफ नहीं मिला। उनके समाज के लोगों ने भी उनका साथ नहीं दिया,जिस कारण उन्होंने धर्म परिवर्तन कर लिया। हिंदू समाज उनके साथ खड़ा है। उन्हें इंसाफ दिलाने के लिए हर स्तर पर उनका साथ देगा।
बदरखा के प्रधान राजकुमार सिंह का कहना है कि गांव का समस्त हिंदू समाज अख्तर के परिवार के साथ खड़ा है। उन्हें इंसाफ दिलाने के लिए अधिकारियों से मिला जाएगा। ऋषिराज सिंह का कहना था कि धर्म परिवर्तन करने का फैसला अख्तर के परिवार का है। उन पर किसी ने दबाव नहीं बनाया है। हिंदू समाज के लोग उनके साथ खड़े है। अगर कोई उन पर दबाव बनाता है तो हिंदू समाज उसका विरोध करेगा। जगमेहर सिंह का कहना था कि अख्तर उर्फ धर्म सिंह को इंसाफ दिलाने के लिए हिंदू समाज उनके साथ खड़ा है।

व्हाट्सएप के माध्यम से हमारी खबरें प्राप्त करने के लिए यहाँ क्लिक करें।

हमारा न्यूज़ चैनल सबस्क्राइब करने के लिए यहाँ क्लिक करें।
Follow us on Facebook http://facebook.com/HamaraGhaziabad
Follow us on Twitter http://twitter.com/HamaraGhaziabad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *