ताज़ा खबर :
prev next

पहल – गाज़ियाबाद की सड़कों को जाम से मुक्ति दिलाएँगे पुलिस के ट्रैफिक फाइटर्स

राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में हर दिन ट्रैफिक जाम से जूझने वाले शहरों में संभवतः गाज़ियाबाद पहले नंबर पर है। गाज़ियाबाद की सड़कों पर हर समय लगने वाले ट्रैफिक जाम की कई वजहें है जिनमें गाज़ियाबाद की जनता के बीच ट्रैफिक नियमों की अनदेखी और यातायात पुलिसकर्मियों की लापरवाही प्रमुख हैं। इसके अलावा शहर में राजमार्गों पर जगह-जगह हो रहे मेट्रो रेल और सड़कों के चौड़ीकरण से संबन्धित निर्माण के कार्य और शहर से गुजरने वाले राष्ट्रमार्ग और राज्यमार्ग भी जाम के लिए जिम्मेदार हैं।
गाज़ियाबाद की सड़कों को जाम से मुक्ति दिलाने के लिए एसएसपी वैभव कृष्ण ने ट्रैफिक फाइटर्स के रूप में एक नई पहल की है। ट्रैफिक फाइटर्स योजना के तहत एसएसपी ने 15 पुलिस टीमों का गठन किया है जो सुबह 8 बजे से लेकर 8 बजे तक जिले के विभिन्न स्थानों पर तैनात रह कर सड़कों की निगरानी करेंगे। इन टीमों में से 10 दस्ते शहरी क्षेत्र में और 5 दस्ते ग्रामीण इलाके में तैनात रहेंगे। हर फाइटर टीम में एक पुलिस गाड़ी पर एक ट्रैफिक सब-इंस्पेक्टर, एचसीपी, कांस्टेबल और पर्याप्त संख्या में होम गार्ड तैनात रहेंगे।
ट्रैफिक फाइटर्स की ये टीमें शहर के 15 व्यस्ततम इलाकों में तैनात रहेंगी जिनमें एबीसी कट, आरकेजीआईटी यू टर्न, वीवीआईपी एड्रैस (राज नगर एक्सटेंशन), हापुड़ चुंगी, सीआईएसएफ़ कट, राहुल विहार, यूपी गेट, महाराजपुर बार्डर, एनआईबी चौराहा, वसुंधरा चौराहा, सीमापुरी बार्डर, टीला मोड़ (लोनी), डासना पुल, गंगनहर पुलिस चौकी और राज पौपला सौंदा कट शामिल हैं। एसएसपी वैभव कृष्ण के अनुसार हर फाइटर टीम को आदेश दिए गए हैं कि वे अपने-अपने क्षेत्र में ट्रैफिक संचालन को सुचारु करने के साथ-साथ ट्रैफिक के नियमों का उल्लंघन करने वालों के विरुद्ध भी सख्त कार्यवाही करें।
अब देखना यह होगा कि एसएसपी की यह पहल कितने दिन तक कामयाब रहती है। इससे पहले भी गाज़ियाबाद पुलिस ने आकर्षक नामों के साथ कई योजनाएँ शुरू की थीं मगर खुद यातायात पुलिसकर्मियों में ट्रैफिक के नियमों के प्रति लापरवाही और भ्रष्टाचार के कारण सभी योजनाओं ने कुछ ही दिनों में दम तोड़ दिया। यातायात पुलिस के अधिकारियों और कर्मचारियों में नई तकनीक के प्रति रुचि न होना भी नाकामयाबी का एक बड़ा कारण है। यही कारण है कि ई-चालान जैसी योजनाएँ प्रदेश के अन्य शहरों में तो अच्छा काम कर हैं लेकिन गाज़ियाबाद में बेअसर हैं।

व्हाट्सएप के माध्यम से हमारी खबरें प्राप्त करने के लिए यहाँ क्लिक करें।

हमारा न्यूज़ चैनल सबस्क्राइब करने के लिए यहाँ क्लिक करें।
Follow us on Facebook http://facebook.com/HamaraGhaziabad
Follow us on Twitter http://twitter.com/HamaraGhaziabad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *