ताज़ा खबर :
prev next

ग्रामीणों से जबरन बिजली बिल वसूली का विरोध, डीएम कार्यालय पर धरना

जनपद के आधा दर्जन से अधिक गांवों ग्रामीण इलाकों में बिजली बिल शहरी टैरिफ से आने व अन्य समस्याओं को लेकर किसानों ने मुख्य अभियंता विद्युत कार्यालय पर धरना-प्रदर्शन किया था। किसानों का आरोप है कि समस्या के समापन का आश्वासन पर उन्होंने धरना समाप्त किया था, लेकिन उसके बावजूद गांव में विद्युतकर्मियों ने जबरन बिजली बिल वसूली के साथ महिला से अभद्रता की। आरोपी विद्युतकर्मियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराने की मांग को लेकर किसानों ने महिलाओं के साथ डीएम कार्यालय पर धरना शुरू कर दिया।

पिछले दिन मुख्य अभियंता आरके राणा ने धरनारत किसानों के बीच जाकर अपने स्तर की जायज मांगों को पूरा करने का आश्वासन दिया था। इनमें एक मांग यह भी थी कि पंचलोक, मंडोला समेत आधा दर्जन गांवों में विद्युत बिल शहरी टैरिफ से न वसूलकर ग्रामीण दरों के आधार पर वसूला जाए। जिसके लिए मुख्य अभियंता ने एक जनवरी 2018 से ग्रामीण टैरिफ के हिसाब से वसूलने का भरोसा दिलाया था। किसान व ग्रामीणों का नेतृत्व कर रहे मनवीर तेवतिया का कहना है कि इसके लिए चीफ इंजीनियर को गांव में बुलाया गया, लेकिन वह ग्रामीणों के बीच न आकर प्रधान के यहां से वापस चले गए। इसके अलावा उन्होंने गांव पंचलोक में एक्सईएन, एसडीओ व जेई के साथ विद्युतकर्मियों को भेजकर जबरन बिल वसूली शुरू कर दी। यहां एक महिला के साथ विद्युतकर्मियों ने अभद्रता भी की, जिसकी रिपोर्ट लिखवाने के लिए पीड़िता ग्रामीणों के साथ ट्रॉनिका सिटी थाने पहुंची। वहां सरकारी कर्मचारी के खिलाफ बिना डीएम की अनुमति के रिपोर्ट लिखने से इन्कार कर दिया गया। ग्रामीणों ने देर शाम महिलाओं के साथ डीएम कार्यालय परिसर में धरना शुरू कर दिया। देर रात तक उनके धरने पर कोई अधिकारी मिलने के लिए नहीं पहुंचा था। मंगलवार को उन्होने शहर में जनजागरण प्रभात फेरी निकालने को कहा है।

व्हाट्सएप के माध्यम से हमारी खबरें प्राप्त करने के लिए यहाँ क्लिक करें।

हमारा न्यूज़ चैनल सबस्क्राइब करने के लिए यहाँ क्लिक करें।
Follow us on Facebook http://facebook.com/HamaraGhaziabad
Follow us on Twitter http://twitter.com/HamaraGhaziabad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *