ताज़ा खबर :
prev next

बलात्कार की शिकार नाबालिग के लिए मसीहा बन कर आए नोएडा के दो भाई

यदि आपको सड़क पर कोई ऐसी बेसहारा नाबालिग लड़की मिले जिसके शरीर में पड़े घाव सड़ चुके हों तो क्या आप रुक कर उसकी मदद करेंगे या फिर उसे अनदेखा कर आगे बढ़ जाएंगे। शायद अपनी ज़िंदगी की जद्दोजहद से लड़ते हम में से ज़्यादातर लोग मदद करने के बजाए आगे बढ़ जाना ही बेहतर समझेंगे।
मगर नोएडा के बोहलपुर गाँव में किराए के छोटे से कमरे में रहने वाले चिंटू ने जब सड़क पर बेसहारा घूमती एक लड़की को देखा तो चिंटू ने न केवल उसका इलाज कराया बल्कि उसे किराए पर एक कमरा लेकर दिया और अब अपने भाई के साथ मिलकर बलात्कार के कारण गर्भवती हुई लड़की के लिए कानूनी लड़ाई लड़ रहे हैं।
चिंटू काम की तलाश में अभी कुछ महीने पहले ही नोएडा आए हैं और लोगों के घरों में मिनरल वॉटर की बोतलें सप्लाई करते हैं। एक दिन जब वे नोएडा के ममूरा गाँव के एक घर में पानी की बोतल देने पहुंचे तो उन्हें सड़क पर एक लड़की बदहवास हालत में मिली। लड़की के पैरों में पड़े घावों से पस बह रहा था और ठीक से चल भी नहीं पा रही थी। उसकी यह हालत देखकर चिंटू से रहा न गया और वे लड़की को एक डॉक्टर के पास ले गए। इलाज के दौरान लड़की ने जब अपनी दर्द भरी दास्तान चिंटू को सुनाई तो चिंटू ने उसकी मदद करने की ठान ली।
16 वर्षीय यह लड़की करीब दस साल पहले अपनी माँ के साथ वाराणसी से नोएडा में काम की तलाश में आई थी। वाराणसी में लड़की के पिता की लंबी बीमारी के बाद मौत हो गई थी और माँ-बेटी काम तलाशती हुई नोएडा पहुंची थी। लगभग एक साल पहले लड़की की माँ की तबीयत काफी खराब हो गई। जब घर में इलाज के लिए पैसे खत्म हो गए तो लड़की ने अपने पड़ोस में ही रहने वाले सूरज नाम के एक लड़के से 20 हज़ार रुपए उधार ले लिए।
दुर्भाग्य से कुछ समय बाद लड़की की माँ की मौत हो गई और उसके बाद सूरज ने अपना असली रंग दिखाना शुरू कर दिया। उधार लिए रुपए लौटने में असमर्थ लड़की को सूरज ने ब्लैकमेल कर अपने साथ रहने पर मजबूर कर दिया। इसके बाद सूरज अपने घर के सारे काम लड़की से करवाता। यही नहीं, सूरज और उसके कई दोस्त मिलकर नशे की हालत में लड़की के साथ बलात्कार भी करते थे। सूरज को जब पता चला की लड़की गर्भवती हो गई है तो एक दिन उसने लड़की को मारपीट कर सड़क पर बेसहारा छोड़ दिया।
बहरहाल, हमारे हीरो चिंटू को जब लड़की के बारे में पता चला तो उसने लड़की को बोहलपुर गाँव में अपने कमरे के पास ही एक कमरा किराए पर लेकर दे दिया। चिंटू के इस नेक काम में उसके भाई पिंटू ने भी मदद की। जब लड़की ने दोनों भाइयों को कहा कि वह गर्भपात कराना चाहती है तो वे उसे लेकर नोएडा की ही एक एनजीओ के पास पहुंचे। एनजीओ की संचालिका स्मिता पांडे को जब पूरी कहानी का पता चला तो उन्होंने बताया कि गर्भ 8 महीने का है इसलिए गर्भपात संभव नहीं है। इसके बाद स्मिता ने बलात्कारी सूरज के खिलाफ एफ़आईआर लिखाई और नोएडा पुलिस ने भी तत्परता दिखाते हुए सूरज को आईपीसी की धारा 376 और पोक्सो एक्ट की विभिन्न धाराओं के तहत गिरफ्तार कर लिया।
फिलहाल स्मिता, चिंटू और पिंटू के साथ मिलकर लड़की का इलाज करा रही हैं। स्मिता लड़की का आधार और पैन कार्ड बनवाने में भी मदद कर रही रहीं जिससे उसे विभिन्न सरकारी योजनाओं का लाभ मिल सके। उम्मीद है कि अगले एक हफ्ते में लड़की को सभी जरूरी कागजात मिल जाएंगे। अगर आप इस बेसहारा लड़की के इलाज या किसी प्रकार की आर्थिक मदद करना चाहते हैं तो आप स्मिता से 9810406958 पर संपर्क कर सकते हैं।
हमारा गाज़ियाबाद टीम की ओर से चिंटू के साहस और हिम्मत को सलाम। हम आशा करते हैं कि चिंटू के इस नेक काम से प्रेरित होकर बहुत से लोग अब किसी बेसहारा को मदद देने से नहीं हिचकिचाएँगे।

व्हाट्सएप के माध्यम से हमारी खबरें प्राप्त करने के लिए यहाँ क्लिक करें।

हमारा न्यूज़ चैनल सबस्क्राइब करने के लिए यहाँ क्लिक करें।
Follow us on Facebook http://facebook.com/HamaraGhaziabad
Follow us on Twitter http://twitter.com/HamaraGhaziabad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *