ताज़ा खबर :
prev next

एबीईएस कॉलेज में डीएसटी नीमेट पर कार्याशाला आयोजित

गाज़ियाबाद के प्रतिष्ठित संस्थान एबीईएस इंजीनियरिंग काॅलेज में 29 नवम्बर को उद्यमिता विकास में अग्रणी संस्थान इंटरप्रिनिअरशिप डेव्हलपमेंट इंस्टीट्यूट आॅफ इंण्डिया, अहमदाबाद द्वारा डीएसटी नीमेट प्रोजेक्ट पर एक दिवसीय कार्याशाला का आयोजन किया गया। इस कार्यशाला में नाॅर्थ ज़ोन के राज्यों जिसमें जम्मू-कश्मीर, पंजाब, उत्तर प्रदेश, हिमाचल प्रदेश व उत्तराखण्ड के 55
संस्थानों के 60 प्रतिनिधियों ने भाग लिया।

कार्यक्रम का उद्घाटन डीएसटी की साइंटिस्ट (डॉ.) ऊषा दीक्षित, डीएसटी नीमेट प्रोजेक्ट के डायरेक्टर प्रो. एस. बी. सरीन, नेशनल प्रोजेक्ट काॅर्डिनेटर प्रकाश सोलंकी, एबीईएस इंजीनियरिंग
काॅलेज के डीन एकेडमिक प्रो. गजेन्द्र सिंह व एबीईएसईसी स्टार्टअप लैब के विभागाध्यक्ष महेन्द्र गुप्ता द्वारा द्वीप प्रज्ज्वलित कर किया गया।

कार्यक्रम में एबीईएसईसी के डीन एकेडमिक प्रो. गजेन्द्र सिंह ने बताया कि आज नौकरी प्राप्त करना एक बहुत मुश्किल कार्य है, और निकट भविष्य में नौकरी प्राप्त करना और भी कठिन हो जायेगा अतः
छात्रों को उद्यमी बनने के लिए प्रेरित किया जाना चाहिए और उद्यमिता के महत्व को समझते हुए प्राध्यापकों को इस क्षेत्र में पूर्ण मेहनत और लगन के साथ कार्य करना चाहिए। उन्होंने बताया कि कोई भी कार्य शुरु करने में कठिनाइयाँ तो आती हैं, पर उनका सामना करते हुए अपने लक्ष्य की ओर आगे बढ़ा जाये तो सफलता अवश्य प्राप्त होती है।

डॉ. ऊषा दीक्षित ने उद्यमिता के महत्व को बताते हुए कहा कि डीएसटी और ईडीआईआई, अहमदाबाद का उद्देश्य उद्यमिता विकास को प्रोत्साहन देना है अतः आवश्यक है कि सरकार द्वारा प्रदत्त वित्तीय कोष का उपयोग सही प्रकार से और उचित कार्यक्रमों के सफल संचालन में किया जाये। जिससे इनसे सकारात्मक परिणाम किया जा सके। तत्पश्चात प्रो0 सरीन ने प्रतिभागियों को उद्यमिता विकास के विभिन्न कार्यक्रमों व उनके उद्देश्यों के बारे में जानकारी दी और कहा कि हमारा ध्येय इनोवेशन व इनोवेशन विचारों को प्रोत्साहित कर नवीन उद्योग स्थापित करना है।

नेशनल प्रोजेक्ट काॅर्डिनेटर प्रकाश सोलंकी ने ईडीआईआई और उद्यमिता विकास में इसी प्रकार की अन्य सहयोगी संस्थाओं के इतिहास के बारे में बताया। उन्होंने प्रतिभागियों को विभिन्न उद्यमिता विकास कार्यक्रमों के संचालन में आने वाली कठिनाईयों से अवगत कराया और साथ ही उनसे निदान पाने के उपायों से भी अवगत कराया। उन्होंने प्रतिभागियों को ईडीआईआई, अहमदाबाद की कार्यप्रणाली के विषय में भी जानकारी दी। वहीं, महेन्द्र गुप्ता ने बताया कि संस्थान ने पिछले 2 वर्षों में एबीईएसईसी स्टार्टअप लैब के माध्यम से 12 स्टार्टअप्स को जन्म दिया है जिसमें से 2 स्टार्टअप्स ने अपना उद्यम सफलतापूर्वक संस्थान के बाहर
गुड़गाॅंव में स्थापित कर लिया है।

कार्याशाला का अंतिम चरण में प्रतिभागियों ने विभिन्न प्रश्न पूछ कर उनके हल प्राप्त किये। इस कार्यशाला को संस्थान के अध्यक्ष नीरज गोयल, उपाध्यक्ष सचिन गोयल व एडवाइज़र रघुनन्दन कंसल द्वारा प्रोत्साहित किया गया।

 

 

व्हाट्सएप के माध्यम से हमारी खबरें प्राप्त करने के लिए यहाँ क्लिक करें।

हमारा न्यूज़ चैनल सबस्क्राइब करने के लिए यहाँ क्लिक करें।
Follow us on Facebook http://facebook.com/HamaraGhaziabad
Follow us on Twitter http://twitter.com/HamaraGhaziabad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *