ताज़ा खबर :
prev next

तेरी क्या औकात, हमारी हज़ार नस्लें यहीं रहेंगी और तुझसे लड़ेंगी – योगी आदित्यनाथ पर भड़के अकबरुद्दीन ओवैसी, लांघी मर्यादा

तेलंगाना विधानसभा चुनाव में वोटिंग की तारीख नजदीक आते ही नेताओं के बीच जुबानी जंग तेज हो गई है। रविवार को उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और एआईएमआईएम के विधायक अकबरुद्दीन ओवैसी के बीच जबरदस्त जुबानी जंग देखने को मिली। जुबानी हमले के दौरान अकबरुद्दीन ओवैसी भाषा की मर्यादा लांघ गए। उन्होंने योगी के कपड़ों पर कमेंट किया है। अकबरुद्दीन ओवैसी ने कहा, ‘ये कैसे-कैसे कपड़े पहनते हैं और ये मुख्यमंत्री हैं। कहते हैं ओवैसी को भगा देंगे, तेरी औकात क्या है, ओवैसी की आने वाली हजार नस्लें भी यहां रहेंगी और तुझसे लड़ेंगी।’ धार्मिक आधार पर जनता को भड़काने के आरोप में कई मुकदमें झेल रहे अकबरुद्दीन एआईएमआईएम के प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी के छोटे भाई हैं।
ज़ी न्यूज़ के मुताबिक अकबरुद्दीन ओवैसी ने सीएम योगी और पीएम मोदी पर निशाना साधते हुए कहा, ‘सारी ताकत इनके साथ है, फिर भी वोट मांग रहे हैं। ये मुस्लिम ही है जिसके आगे चाय वाला भी झुकने को मजबूर हो गया है। हिन्दी मीडिया कहती है कि भड़काऊ भाषण, जुबान से आग निकलती है, अरे ये आग नहीं है ये तकलीफ है ये दर्द है। शुक्रिया हिन्दी मीडिया, भाईजान बनने के लिए शुक्रिया।’ उन्होंने आगे कहा, वीएचपी, आरएसएस, बजरंग दल, सबका भजन हुआ मोदी का योगी का सबका, सुनो मीडिया वालो मैं सबका भाईजान हूं। जूनियर ओवैसी यहीं नहीं रुके, उन्होंने आगे कहा, ‘चायवाले हमको छेड़िए मत, छेड़िएगा तो इतना बोलूंगा कि कान बहने लगेगा।’ उन्होंने जनसभा में मौजूद लोगों से कहा कि हमें बीजेपी को रोकना है। बीजेपी को आगे बढ़ने से रोकना है तो हुकूमत जरूरी है।
उन्होंने बीजेपी और योगी से यह भी सवाल किया कि अगर योगी, मोदी और बीजेपी के खिलाफ बोला तो क्या मुल्क से भगा देंगे? ओवैसी ने कहा, ‘बीजेपी का मॉडल है हिंदू-मुस्लिम। अकबरुद्दीन ने कहा, ‘हम ख्‍वाजा अजमेरी, ताज महल और कुतुब मीनार, चारमीनार, जामा मस्जिद और मक्‍का मस्जिद की धरती को छोड़कर नहीं जा रहे हैं। हम आपसे लड़ेंगे और पराजित करेंगे।’
आपको बता दें कि तेलंगाना में जोर पकड़ते चुनाव प्रचार अभियान के बीच एक ऐसी दोस्ती है जो वाकई में परवान चढ़ती नजर आ रही है। राज्य में कार्यवाहक मुख्यमंत्री केसीआर और एआईएमआईएम के असादुद्दीन ओवैसी के बीच दोस्ती किसी से छिपी नहीं है। तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) के अध्यक्ष के. चंद्रशेखर राव (केसीआर) ने छह सितंबर को हैदराबाद के सांसद ओवैसी के नेतृत्व वाली एआईएमआईएम को ‘‘मित्र पार्टी’’ बताया था। उसी दिन 119 सदस्यीय विधानसभा को उन्होंने भंग कर दिया था। हालांकि राव कुछ नया नहीं कह रहे हैं, बल्कि उनके कार्यकाल के दौरान इसकी बानगी खूब दिखी। ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहाद-उल मुस्लिमीन (एमआईएमआईएम) की पुराने शहरी इलाकों में मजबूत पकड़ रही है और पार्टी ने तेलंगाना विधानसभा चुनाव में सात सीटें जीती थीं। सात दिसंबर को होने वाले विधानसभा चुनाव के लिये पार्टी ने अपने आठ उम्मीदवार मैदान में उतारे हैं और यह किसी से छिपा नहीं है कि पार्टी अन्य विधानसभा क्षेत्रों में टीआरएस का समर्थन कर रही है।

व्हाट्सएप के माध्यम से हमारी खबरें प्राप्त करने के लिए यहाँ क्लिक करें।

हमारा न्यूज़ चैनल सबस्क्राइब करने के लिए यहाँ क्लिक करें।
Follow us on Facebook http://facebook.com/HamaraGhaziabad
Follow us on Twitter http://twitter.com/HamaraGhaziabad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *