ताज़ा खबर :
prev next

जब महिला फर्जी चेक लेकर बैंक पहुंची रुपये निकालने, तो खुला जालसाजी का राज

देहरादून के विभिन्न थाना क्षेत्रों में फर्जी चेक बनाकर गाज़ियाबाद और छपरौला के कई अकाउंट में करीब 10 लाख रुपये आरटीजीएस (रियल टाइम ग्रॉस सेटलमेंट) करने के मामले में कविनगर और उत्तराखंड पुलिस ने एक महिला और उसके साथी को गिरफ्तार किया। वहीं, अन्य कुछ साथी मौके से फरार हो गए।

आरडीसी के एक प्राइवेट बैंक ने महिला के खिलाफ पुलिस को सूचना दी। जिसके बाद जांच में जुटी पुलिस ने महिला और एक युवक को गिरफ्तार किया। फर्जी चेक लेकर महिला बैंक में रुपये निकालने गई थी। पुलिस ने बताया कि, युवक का नाम दिनेश गिरि है। दोनों को उत्तराखंड पुलिस अपने साथ देहरादून लेकर गई है, जहां उनसे पूछताछ की जा रही है।

पुलिस ने बताया कि, गैंग के लोगों ने देहरादून कोतवाली क्षेत्र में रहने वाली रंजीत कौर नाम की महिला के यूको बैंक के खाते का चेक क्लोन कर 4 लाख 95 हजार रुपये अपने खाते में ट्रांसफर कर लिए थे। जब महिला बैंक में एंट्री करवाने गई तो मामले की जानकारी हुई। शुक्रवार को देहरादून कोतवाली में शिकायत के बाद बैंक की तरफ से गाज़ियाबाद के निजी बैंक की ब्रांच को अलर्ट किया गया। जांच में सामने आया कि इससे पहले यह गैंग ऐसी ही वारदात उत्तराखंड के डालनवाला में भी कर चुके हैं, वहां से भी गैंग ने 4 लाख 95 हजार रुपये ही निकाले थे।

आरोपियों ने पुलिस की पूछताछ में बताया कि, उनकी मुलाकात 4 महीने पहले करनाल के रहने वाले एक युवक से हुई थी। उसने नौकरी देने की बात कहकर गाज़ियाबाद और छपरौला के प्राइवेट बैंक में अकाउंट खुलवाए थे। दोनों ही अकाउंट में रुपये आए थे, लेकिन उन्हें रुपये निकालने की परमिशन नहीं थी। शुक्रवार को उन्हें बैंक में भेजा गया था, जहां रुपये निकालने के बाद उन्हें 25 हजार रुपये महीने के हिसाब से 1 लाख रुपये मिलने थे। आरोपियों के खिलाफ धोखाधड़ी का मुकदमा दर्ज किया गया है। फिलहाल पुलिस उनसे अन्य वारदातों की भी जानकारी ले रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *