ताज़ा खबर :
prev next

सफलता – इसरो ने लॉन्च किया GSAT-7A, भारतीय वायुसेना हुई और मजबूत

आज शाम 4 बजकर 10 मिनट पर भारतीय अंतरीक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने जियोस्टेशनरी कम्युनिकेशन सैटेलाइट जीसैट-7A को श्रीहरिकोटा से सफलतापूर्वक लॉन्च कर दिया। इसे GSLV-F11 शटल यान के जरिए लॉन्च किया गया।
इसरो द्वारा जारी विज्ञप्ति के अनुसार जीसैट-7A सैटेलाइट का वजन करीब 2,250 किलोग्राम है। इसरो प्रवक्ता ने बताया कि जीसैट-7ए का इसरो ने ही किया है। इस सैटेलाइट का जीवन काल आठ वर्ष का होगा। यह सैटेलाइट भारतीय क्षेत्र में केयू-बैंड के उपयोगकर्ताओं को संचार क्षमताएं मुहैया कराएगा। सूत्रों के मुताबिक यह सैटेलाइट वायुसेना को समर्पित होगा, जो वायु शक्ति को और ज्यादा मजबूती देगा। जीएसएलवी एफ-11 जीसैट-7A को जियोसिंक्रोनस ट्रांसफर आर्बिट (जीटीओ) से छोड़ा गया और उसे ऑनबोर्ड प्रणोदन प्रणाली का इस्तेमाल करते हुए फाइनल जियोस्टेशनरी ऑर्बिट में स्थापित किया जाएगा। जीएसएलवी-एफ11 इसरो की चौथी पीढ़ी का लॉन्चिंग व्हीकल है।
बता दें कि इससे पहले इसरो ने भारत के सबसे भारी सैटेलाइट जीसैट-11 को एरिएयनस्पेस रॉकेट की मदद से सफलता पूर्वक लॉन्च किया था। इसरो के प्रमुख के. सिवन ने सफल प्रक्षेपण के बाद कहा कि भारत द्वारा निर्मित अब तक के सबसे भारी, सबसे बड़े और सबसे शक्तिशाली उपग्रह का एरियन-5 के जरिए सफल प्रक्षेपण हुआ। उन्होंने कहा कि जीसैट-11 भारत की बेहरीन अंतरिक्ष संपत्ति है।

व्हाट्सएप के माध्यम से हमारी खबरें प्राप्त करने के लिए यहाँ क्लिक करें।

हमारा न्यूज़ चैनल सबस्क्राइब करने के लिए यहाँ क्लिक करें।
Follow us on Facebook http://facebook.com/HamaraGhaziabad
Follow us on Twitter http://twitter.com/HamaraGhaziabad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *