ताज़ा खबर :
prev next

शर्मनाक – बुलंदशहर रेप कांड की फाइटर अब गाज़ियाबाद में हुई छेड़छाड़ की शिकार

लगभग तीन साल पहले बुलंदशहर में सामूहिक बलात्कार का शिकार हुआ एक परिवार अपनी सारी दुख-तकलीफ़ भुलाकर एक नई जिंदगी की शुरुआत करने गाज़ियाबाद में आकर बसा था। शायद इस फाइटर परिवार को पता नहीं था कि आधुनिक कहे जाने वाले हमारे गाज़ियाबाद महानगर में भी ऐसे नीच सोच वाले लोगों की कमी नहीं जो महिलाओं को सिर्फ मनोरंजन और उपभोग की वस्तु समझते हैं।

शनिवार शाम को गाज़ियाबाद में हुए एक शर्मनाक हादसे में इस परिवार की एक मासूम फाइटर लड़की के साथ तीन लोगों ने न सिर्फ जबर्दस्ती करने की कोशिश की बल्कि उसका मोबाइल फोन भी छीन लिया। घटना के समय वह ट्यूशन पढ़कर अपने घर वापस आ रही थी। लड़की के पिता ने इस संबंध में एक नामजद एफ़आईआर दर्ज कराई, जिसके आधार पर दो लोगों को गिरफ्तार कर लिया गया है, जबकि तीसरे की तलाश जारी है।

लड़की के पिता ने बताया कि शनिवार शाम लगभग 5.30 बजे उनकी बेटी अपनी स्कूटी पर ट्यूशन से वापस आ रही थी। तभी मोटर साइकिल पर सवार तीन युवकों ने उसे रोक कर उसके साथ जबरदस्ती शुरू कर दी। फाइटर लड़की के विरोध करने पर उनमें से एक युवक ने लड़की से स्कूटी की चाभी और मोबाइल फोन भी छीन लिया। इतने में वहाँ आसपास के कुछ लोग आ गए और उन्होंने लड़की को बदमाशों के चंगुल से छुड़ाकर सुरक्षित घर पहुंचाने में मदद की। लड़की के पिता का कहना है कि इससे पहले भी एक युवक लड़की को “बुलंदशहर बलात्कार कांड की पीड़िता” कह कर छेड़ता रहता था।

एसपी(सिटी )श्लोक कुमार ने बताया कि फाइटर परिवार की शिकायत के आधार पर रवि सैनी और आशु भाटी नाम के दो युवकों को गिरफ्तार किया गया है, जबकि तीसरे की तलाश जारी है। गिरफ्तार किए गए युवक फाइटर परिवार के पड़ोस में ही रहते हैं।

आपको बता दें कि जुलाई 2016 में बुलंदशहर जिले के दोस्तपुर गाँव में कुछ बदमाशों ने एक कार को रोक कर उसमें सफर कर रही एक महिला और उसकी बेटी को अपनी हवस का शिकार बनाया था। इस घटना से पश्चिमी उत्तर प्रदेश में आक्रोश की लहर दौड़ गई थी और जगह-जगह धरना-प्रदर्शन हुए थे। शुरुआत में यूपी पुलिस ने तीन लोगों को गिरफ्तार किया था। मगर बाद में जनाक्रोश के दबाव में इस कांड की सीबीआई जांच हुई थी और तीन अन्य लोगों को भी सामूहिक बलात्कार के आरोप में गिरफ्तार किया था। भारत में न्यायिक प्रक्रिया की सुस्ती का अंदाजा आपको इसी बात से लग जाएगा कि अदालत में अभी इस मामले की सुनवाई तक शुरू नहीं हुई है।

हमारा मत –

  • सड़क पर पर्याप्त पुलिस गश्त के अभाव में गाज़ियाबाद में महिलाओं के प्रति हो रहे अपराधों में लगातार वृद्धि हो रही है। गाज़ियाबाद पुलिस को चाहिए कि शहर में पुलिस की गश्त बढ़ाई जाए। विशेषकर स्कूल-कॉलेजों की छुट्टी के समय व शाम को भीड़-भाड़ वाले ऐसे इलाकों में पुलिस कि मौजूदगी ज्यादा जरूरी है जहां महिलाएं ज्यादा संख्या में एकत्र होती हैं।
  • गाज़ियाबाद के जागरूक नागरिकों से भी अनुरोध है कि वे यदि कहीं पर भी किसी महिला को परेशानी में देखें तो तुरंत निर्भय होकर 100 नंबर डायल करें और पुलिस को सूचित करें। नियमानुसार आपका नाम गोपनीय रखा जाएगा।

व्हाट्सएप के माध्यम से हमारी खबरें प्राप्त करने के लिए यहाँ क्लिक करें।

हमारा न्यूज़ चैनल सबस्क्राइब करने के लिए यहाँ क्लिक करें।
Follow us on Facebook http://facebook.com/HamaraGhaziabad
Follow us on Twitter http://twitter.com/HamaraGhaziabad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *