ताज़ा खबर :
prev next

5 हज़ार से ज्यादा आबादी वाली सोसायटियों को खुद करनी ही वेस्ट सेग्रीगेशन की व्यवस्था

गाज़ियाबाद नगर निगम ने अब पाँच हजार या उससे अधिक आबादी वाली हाउसिंग सोसायटियों के लिए कूड़े का सेग्रीगेशन (गीले सूखे कूड़े को अलग करना) अनिवार्य कर दिया है। यह नियम 15 जनवरी से लागू हो जाएगा। इसके अलावा जिन होटलों और ढाबों में हर दिन पचास किलो से अधिक गीला कूड़ा निकलता है, उन्हें अपने यहाँ कचरा निस्तारण यंत्र (वेस्ट डिस्पोसल प्लांट) लगाने। यह नियम उन फार्म हाउसों, समारोह स्थलों पर भी लागू होगा जहां काफी मात्रा में कचरा पैदा होता है।

आपको बता दें कि राष्ट्रीय हरित अभिकरण (एनजीटी) के आदेश पर गाज़ियाबाद नगर निगम ने 15 जनवरी से प्रताप विहार स्थित डंपिंग ग्राउंड से कूड़ा डालने पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। ऐसे में निगम ने एनजीटी के दिशा निर्देश पर कुछ मानक बनाए हैं। इनका पालन हर हाल में किया जाना है। नए मानकों के हिसाब से पांच हजार से ऊपर आबादी वाली सोसायटियों या 200 मकानों से ऊपर वाले मकानों वाली सोसायटियों में कूड़े का सेग्रीगेशन अनिवार्य कर दिया है। इन सोसायटियों से कूड़ा हर हाल में गीला कूड़ा अलग और सूखा कूड़ा अलग उठाया जाएगा और इसकी जिम्मेदारी आरडब्ल्यूए अथवा एओए की होगी।

नगर आयुक्त चंद्र प्रकाश सिंह के अनुसार एनजीटी के दिशा निर्देश का अनुपालन हर हाल में किया जाएगा। गीला कूड़ा और सूखा कचरा हर हाल में अलग कर डंपिंग ग्राउंड पर डाला जाएगा। इसके लिए होटल, बड़े फार्म हाउसों में कूड़ा निस्तारण यंत्र लगाने की विधि उनके संचालकों को बता दी गई है। बड़ी सोसायटियों से अलग-अलग कूड़ा लिया जाएगा। यही नहीं आम लोगों को भी घर-घर से कूड़ा उठाने वाली गाड़ियों में गीला और सूखा कूड़ा अलग करने के लिए एक विशेष अभियान चलकर नागरिकों को जागरूक किया जाएगा।

व्हाट्सएप के माध्यम से हमारी खबरें प्राप्त करने के लिए यहाँ क्लिक करें।

हमारा न्यूज़ चैनल सबस्क्राइब करने के लिए यहाँ क्लिक करें।
Follow us on Facebook http://facebook.com/HamaraGhaziabad
Follow us on Twitter http://twitter.com/HamaraGhaziabad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *