ताज़ा खबर :
prev next

लगातार थकान – कहीं आप भी क्रोनिक फटीग सिंड्रोम के शिकार तो नहीं? जानिए कारण और बचाव

क्रोनिक फटीग सिंड्रोम (सीएफएस) एक जटिल विकार है जो चरम थकान की विशेषता है जिसे किसी भी अंतर्निहित चिकित्सा स्थिति द्वारा समझाया नहीं जा सकता है। थकान शारीरिक या मानसिक गतिविधि के साथ और ज्‍यादा खराब हो सकती है, लेकिन आराम के साथ सुधार नहीं करता है। इस अवस्‍था को सिस्‍टमेटिक इनटॉलरेंस डिजीज भी कहते हैं। यह रोग आमतौर पर 40 से 50 साल वालों में ज्‍यादा देखने को मिलता है। महिलाओं में इसकी संभावना ज्‍यादा देखी गई है।

क्रोनिक फटीग सिंड्रोम का कारण अज्ञात है, हालांकि इसको लेकर कई सिद्धांत हैं, वायरल संक्रमण से मनोवैज्ञानिक तनाव तक। कुछ विशेषज्ञों का मानना है कि क्रोनिक फटीग सिंड्रोम कई कारकों के एकजुट होने से शुरू हो सकता है। क्रोनिक फटीग सिंड्रोम के निदान की पुष्टि करने के लिए कोई एकल परीक्षण नहीं है। आपको अन्य स्वास्थ्य समस्याओं से निपटने के लिए विभिन्न प्रकार के चिकित्सा परीक्षणों की आवश्यकता हो सकती है जिनके समान लक्षण हैं। क्रोनिक फटीग सिंड्रोम के लिए उपचार उसके लक्षणों को राहत देकर किया जा सकता है।

क्रोनिक फटीग सिंड्रोम के लक्षण
थकान, याददाश्त या एकाग्रता में कमी, गले में खराश, गर्दन या बगल में बढ़े हुए लिम्फ नोड्स, अस्पष्टीकृत मांसपेशी या जोड़ों का दर्द, सिर दर्द, नींद न आना और शारीरिक या मानसिक व्यायाम के 24 घंटे से अधिक समय तक चरम थकावट।

क्रोनिक फटीग सिंड्रोम के कारण
जिन लोगों को क्रोनिक फटीग सिंड्रोम होता है, वे सामान्य मात्रा में व्यायाम और गतिविधि के प्रति भी संवेदनशील होते हैं। क्रोनिक फटीग सिंड्रोम के अलग-अलग कारण हो सकते हैं, जो इस प्रकार हैं: वायरल इंफेक्‍शन, इम्‍यून सिस्‍टम की समस्‍या, हॉर्मोन में बदलाव

डॉक्‍टर से कब मिलना चाहिए
थकान कई बीमारियों का लक्षण हो सकता है, जैसे संक्रमण या मनोवैज्ञानिक विकार। यदि आपको लगातार या अत्यधिक थकान होती है तो आपको चिकित्‍सक की सलाह लेनी चाहिए।

व्हाट्सएप के माध्यम से हमारी खबरें प्राप्त करने के लिए यहाँ क्लिक करें।

हमारा न्यूज़ चैनल सबस्क्राइब करने के लिए यहाँ क्लिक करें।
Follow us on Facebook http://facebook.com/HamaraGhaziabad
Follow us on Twitter http://twitter.com/HamaraGhaziabad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *