ताज़ा खबर :
prev next

उद्यमियों व कारोबारियों ने ली प्रतिबन्धित पालीथिन को दरकिनार करने की शपथ

गाज़ियाबाद नगर आयुक्त दिनेश चन्द्र द्वारा मंगलवार को नगर निगम सभागार में नगर निगम सीमान्तर्गत प्लास्टिक की पैकेजिंग एवं थैली के उत्पादकों व विक्रेताओं को प्रतिबन्धित प्लास्टिक के प्रयोग न करने के सम्बन्ध में केंद्र व राज्य सरकार के अधिनियमों की धाराओं के सम्बन्ध में जानकारी दी गयी। साथ ही, प्रतिबंधित प्लास्टिक का उपयोग न करने के लिए लोगों को नगर आयुक्त द्वारा शपथ भी दिलाई गई।
सर्वप्रथम, नगर आयुक्त ने बैठक में उपस्थित सभी प्लास्टिक की पैकेजिंग एवं थैली के उत्पादकों व विक्रेताओं को उप्र प्लास्टिक और अन्य जीव अनाशित कूडा-कचरा (उपयोग और निस्तारण का विनियमन) (संशोधन) अध्यादेश, 2018 व प्लास्टिक अपशिष्ट प्रबन्धन अधिनियम-2016 एवं ठोस अपशिष्ट प्रबन्धन नियमावली-2016 के अन्तर्गत प्लास्टिक और अन्य जीव अनाशित कूड़ा-कचरा से सम्बन्धित धाराओं के सम्बन्ध में विस्तार से जानकारी दी गयी। जिसमें प्लास्टिक का प्रयोग करने पर जुर्माने व जुर्माना लगाने के बावजूद भी बार-बार प्लास्टिक का प्रयोग करने पर कारावास आदि का भी उल्लेख है। 
इस दौरान बैठक में उपस्थित उत्पादकों व विक्रेताओं के सभी प्रश्नों व जिज्ञासाओं के बारे में भी नगर आयुक्त द्वारा विस्तार से उत्तर व अन्य आवश्यक जानकारी दी गयी। नगर आयुक्त ने सभी को गीले कूड़े से बनाये जाने वाले कम्पोस्ट के बारे में भी अवगत कराया। उन्होंने बताया कि प्लास्टिक से बनी सामग्री जिनमें थैली, कप-प्लेट, दोनें, चम्मच, गिलास आदि को विगत वर्ष 2 अक्टूबर, 2018 से पूर्ण रूप से प्रतिबन्धित कर दिया गया है। 
बैठक में उपस्थित प्लास्टिक की पैकेजिंग एवं थैली के उत्पादकों व विक्रेताओं को प्लास्टिक की थैली व प्लास्टिक की पैकेजिंग के सम्बन्ध में मार्किंग व लेबलिंग के विषय में उपयोग होने वाले विभिन्न चिन्हों के बारे में भी समझाया गया। इसके बाद, नगर आयुक्त द्वारा उपस्थित सभी को प्रतिबन्धित प्लास्टिक का प्रयोग न करने व न करने देनें के सम्बन्ध में शपथ भी दिलायी गयी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *