ताज़ा खबर :
prev next

मेरठ : नोएडा में पति के साथ गिरफ्तार हुई फर्जी महिला IFS, ऐसे हुआ मामले का खुलासा

खुद को आईएफएस अफसर बताने वाली एक महिला को नोएडा पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। महिला आईएफएस बताकर करीब तीन साल से मेरठ, नोएडा, गाज़ियाबाद, मुरादाबाद सहित कई जिलों के पुलिस अधिकारियों को धोखा देकर वीआईपी सुविधा ले रही थी। उसके साथ ही सरकारी गनर व एस्कॉर्ट चलती थी। महिला ने कानपुर में एक ज्वाइंट कमिश्नर के बेटे से शादी की है, उसे भी गिरफ्तार कर लिया गया।

जानकारी के मुताबिक महिला मेरठ के एक डॉक्टर की बेटी है और उसके मेरठ, दिल्ली, गाज़ियाबाद, नोएडा समेत कई जगह फ्लैट हैं। कैंट स्थित तिवारी कंपाउंड में डॉ. अयूब खान (एमबीबीएस) का परिवार रहता है। डॉ. अयूब की बेटी जोया खान खुद को आईएफएस बताकर एक्सयूवी गाड़ी में नीली बत्ती लगाकर चलती थी।

वह खुद को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की स्पेशल सुरक्षा में तैनात होकर प्रमुख सचिव के पद पर होना बताती थी। इसको देखते मेरठ पुलिस ने जोया खान को पीएसओ (प्राइवेट सिक्योरिटी ऑफिसर) दरोगा मोहम्मद आसिफ दिया हुआ था। उसके साथ पुलिस की एस्कॉर्ट भी चलती थी। मेरठ समेत कई जिलों की पुलिस जोया खान को ऑफिसर समझकर वीआईपी सुविधा देती थी। जोया खान करीब सात साल से निशांत निवासी वाराणसी के साथ रहती थी।

जोया खान ने वीआईपी सुविधा न मिलने पर एसएसपी नोएडा को हड़काया था। जिस पर एसएसपी नोएडा वैभव कृष्ण को शक हुआ। एसएसपी के निर्देश पर नोएडा पुलिस जोया खान के फ्लैट में पहुंची। शुरूआत में जोया खान ने पुलिस को आड़े हाथों ले लिया। जब पुलिस ने फ्लैट में तलाशी लेनी शुरू की तो पोल खुल गई। पुलिस ने जोया खान को गिरफ्तार कर लिया। फ्लैट से एपल के 4 लैपटॉप समेत अन्य सामान को पुलिस ने कब्जे में लिया। पुलिस ने निशांत को भी हिरासत में लिया है। नोएडा पुलिस ने मंगलवार रात मेरठ में छापा मारकर जोया खान के घर से दो लग्जरी गाड़ी बरामद की हैं।
पुलिस की पूछताछ में निशांत और जोया खान ने बताया है कि पढ़ाई करने के बाद उन्होंने 2007 में पीसीएस की परीक्षा दी थी। जिसमें वह विफल हो गए थे। जिसके बाद दोनों ने प्लानिंग बनाई। जोया खान फर्जी आईएफएस बन गई। पुलिस सूत्रों के मुताबिक जोया के लैपटॉप में कई ऐसी जानकारी मिली हैं, जिससे सुरक्षा संबंधित कई राज खुले हैं। उसने अफगानिस्तान को भी संदेश भेजे हैं। पुलिस सूत्रों ने बताया कि जोया का कनेक्शन पाकिस्तान से तो नहीं है, इसकी सुरक्षा एजेंसियां जांच पड़ताल करने में जुटी हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *