ताज़ा खबर :
prev next

श्री राम ने अपने जीवन काल में कभी भी दो प्रकार की बाते नहीं की

आर्य समाज राजनगर एक्सटेंशन गाज़ियाबाद में दो दिवसीय यज्ञ एवं श्री राम कथा का मंगलवार को सफलतापूर्वक समापन हुआ। यज्ञ के ब्रह्मा आचार्य रामेश्वर शास्त्री रहे। कथावाचक पंडित कुलदीप आर्य  ने संगीतमय तरीके से श्री राम जन्मोत्सव का वर्णन किया।

कथा में उन्होंने बताया कि जातकर्म संस्कार में सोने की सलाका को शहद में डुबोकर बच्चे की जीभ पर ओ३म लिखा जाता है। उसके पीछे की भावना यह रहती है कि हमारी वाणी कीमती शब्द बोले, अच्छे उच्च विचार बोलने वाली वाणी हो एवं मीठा बोले मधुर बोले कड़वा न बोले।

कथा में उन्होंने बताया कि श्री राम ने अपने जीवन काल में कभी भी दो प्रकार की बातें नहीं की। उन्होंने माता सीता एवं राक्षसी त्रिजटा के बीच हुए संवाद को याद कराते हुए बताया की माता सीता त्रिजटा को कहती हैं कि मेरे कटु वचन बोलने के कारण मुझे यह महान दुख झेलना पड़ा मैंने भरत जैसे चरित्रवान देवर पर कटु वचनों से आघात किया।

महान तपस्वी महात्मा लक्ष्मण के चरित्र को याद करते हुए आचार्य जी ने बताया सीता हरण के पश्चात श्री राम की सुग्रीव से भेंट हुई तो सुग्रीव ने सीता माता के फेंके हुए आभूषणों को पहचानने हेतु लक्ष्मण के सम्मुख रखें किंतु महात्मा लक्ष्मण कुंडल एवं बाजूबंद पहचान ना सके। केवल पैरों के बिछुवे ही लक्ष्मण जी पहचान पाए क्योंकि वह प्रतिदिन प्रातः सीता माता के चरण छूकर अभिवादन किया करते थे। कभी भी उनकी दृष्टि सीता माता के चेहरे पर नहीं पड़ी।

उन्होंने माता-पिता एवं गुरु से अनुरोध किया कि वे बच्चों के निर्माण पर बहुत सावधानी से परिश्रम पूर्वक छोटी-छोटी बातों का ध्यान रखते हुए ज्यादा लाड़ प्यार न करके, बच्चों में गुणों का समावेश एवं बुराइयों को दूर भगाते रहे।

कार्यक्रम में आर्य प्रतिनिधि सभा महानगर गाज़ियाबाद के कोषाध्यक्ष उमेंद्र आर्य व उनकी पत्नी, सर्वे भवन्तु सुखिनः ट्रस्ट वसुंधरा के अध्यक्ष जितेंद्र भाटिया व उनकी पत्नी, अटौर नंगला आर्य समाज के प्रधान कृष्ण पाल, कवि नगर आर्य समाज के मंत्री विरेंद्र कुमार धामा उपस्थित रहें।

 

 

व्हाट्सएप के माध्यम से हमारी खबरें प्राप्त करने के लिए यहाँ क्लिक करें।

हमारा न्यूज़ चैनल सबस्क्राइब करने के लिए यहाँ क्लिक करें।
Follow us on Facebook http://facebook.com/HamaraGhaziabad
Follow us on Twitter http://twitter.com/HamaraGhaziabad