ताज़ा खबर :
prev next

अगर मोदी गुफा में ध्‍यान लगा सकते हैं तो मुसलमान मस्जिद में नमाज क्‍यों नहीं पढ़ सकते : ओवैसी

हैदराबाद से लगातार चौथी बार सांसद निर्वाचित और ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (AIMIM) के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने मुसलमानों को संबोधित करते हुए कहा कि यदि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मंदिरों में जाकर पूजा-अर्चना कर सकते हैं तो इस देश के मुसलमान आखिर मस्जिदों में जाकर बेखौफ नमाज अदा क्‍यों नहीं कर सकते? ओवैसी ने कहा, देश के मुसलमानों को भाजपा के सत्ता में आने से डरना नहीं चाहिए क्योंकि संविधान प्रत्येक नागरिक को धार्मिक स्वतंत्रता का अधिकार देता है।

यहाँ मक्‍का मस्जिद में एक कार्यक्रम के दौरान ओवैसी ने कहा, ‘यदि पीएम मोदी मंदिर जा सकते हैं तो हम भी हमारी मस्जिदों में जा सकते हैं। यदि पीएम मोदी गुफा में बैठकर ध्‍यान लगा सकते हैं तो हम मुस्लिम भी मस्जिदों में बैठकर गर्व के साथ नमाज पढ़ सकते हैं।’ लोकसभा चुनाव में बीजेपी को 303 सीटें मिलने का जिक्र करते हुए एआईएमआईएम नेता ने कहा कि इससे किसी को भी संवैधानिक अधिकारों के हनन का हक नहीं मिल जाता। उन्‍होंने कहा, ‘अगर कोई ये समझ रहा है कि हिन्‍दुस्‍तान के वजीर-ए-आजम 300 सीट जीतकर मनमानी करेंगे तो ऐसा नहीं हो सकेगा, क्‍योंकि देश में संविधान है और वह इसकी इजाजत नहीं देता।’

आवैसी ने कहा कि प्रचंड बहुमत से जीत के बाद अब भाजपा की जिम्मेदारी बढ़ गई है। पार्टी को अपने वादों को पूरा करना चाहिए। अगर अब भाजपा काम नहीं करती है तो जो जनता इस पार्टी को आसमान पर लेकर गई है, वो ही नीचे भी गिरा सकती है। बता दें, ओवैसी इससे पहले भारतीय जनता पार्टी को मिले प्रचंड बहुमत को लेकर विवादित और बेतुका बयान दे चुके हैं।

ओवैसी ने यह भी कहा कि देश के संविधान का हवाला देकर वह ‘मजलूमों के इंसाफ’ के लिए अपनी लड़ाई जारी रखेंगे। उन्‍होंने कहा, ‘हिन्‍दुस्‍तान को आबाद रखना है, हम हिन्‍दुस्‍तान को आबाद रखेंगे। हम यहां पर बराबर के शहरी हैं, किरायेदार नहीं हैं, हिस्‍सेदार रहेंगे।’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *