ताज़ा खबर :
prev next

सावधान – दिल्ली के कनॉट प्लेस में दो दिन नहीं चलेंगी गाडियाँ, क्यों न गाज़ियाबाद में हो ऐसा तजुरबा

कनॉट प्लेस के इनर सर्किल में आगामी रविवार और सोमवार को 12 घंटे वाहन नहीं चलेंगे। नई दिल्ली नगर पालिका परिषद (एनडीएमसी) और ट्रैफिक पुलिस अधिकारियों के बीच शुक्रवार को हुई बैठक के बाद यह फैसला लिया गया। .

सुबह नौ से रात नौबजे तक रोक

एनडीएमसी स्मार्ट सिटी योजना के तहत पहले चरण में इनर सर्किल को वाहन मुक्त किया जाना है।इसके तहत आगामी रविवार यानि 30 जून और सोमवार एक जुलाई को सुबह नौसे रात नौ बजे तक यानि 12 घंटे वाहन नहीं चलेंगे। हालांकि इस दौरान वाहनों को पार्किंग तक जाने की अनुमति होगी। .

कमियां दूर करेंगे

एनडीएमसी ने कहा है कि पहले दो दिनों में वाहनमुक्त कनॉट प्लेस की व्यावहारिकता को परखा जाएगा। जो भी कमियां और परेशानी हमारे सामने आएंगी, उन्हें आगे के चरणों में दूर कर लिया जाएगा।योजना लागू रहने वाले दिनों में ट्रैफिक पुलिस, एनडीएसी के इंजीनियरिंग विभाग के अधिकारी और व्यापारियों समेत अन्य संबंधित लोग मौजूद रहेंगे। .

प्रवेश मार्गों पर निर्देशिका लगेंगी
हर प्रवेश मार्ग पर ट्रैफिक पुलिस, स्थानीय पुलिस और इनफोर्समेंट की टीम मौजूद रहेंगी। सभी सात रेडियल प्वाइंट पर सूचना पट्टी के अलावा पार्किंग संबंधी दिशा-निर्देश लगाए जाएंगे। इसके अलावा बुजर्गों के लिए पिक एंड ड्रॉप की सुविधा भी उपलब्ध होगी। .

आज ढाई घंटे की मॉक ड्रिल

कनॉट प्लेस को वाहन मुक्त करने की योजना को लागू करने से पहले एनडीएमसी शनिवार को ढाई घंटे की मॉक ड्रिल करेगी। सुबह 7:30 बजे से लेकर 10 बजे तक यह मॉक ड्रिल आयोजित की जाएगी। इसमें एनडीएमसी और ट्रैफिक पुलिस के अफसर तथा व्यापारी शामिल होंगे। .

व्यापारियों ने शुरू किया विरोध
एनडीएमसी की योजना को लेकर व्यापारियों ने विरोध करना शुरू कर दिया है। उनका कहना है कि यहां कई ऐसे लोग आते हैं जो केवल अपने वाहन से ही चलना पसंद करते हैं। अगर यहां गाड़ियों के प्रवेश पर पाबंदी लगाई जाती हैतो हमारे व्यापार पर विपरीत असर पड़ेगा। .

एनडीएमसी की सचिव रेनू सिंह के अनुसार, योजना लागू करने की तैयारी पूरी हो चुकी है। मॉक ड्रिल के आधार पर अगर बदलाव की जरूरत महसूस हुई तो संशोधित प्लान तैयार किया जाएगा। इस दौरान सभी पार्किंग खुली रहेंगी।

ट्रेडर्स एसोसिएशन के सचिव विक्रम के अनुसार, एनडीएमसी ने जो योजना साझा की थी वह मौजूदा योजना से बिल्कुल अलग है। यदि पहले बताई गई योजना लागू नहीं की गई तो हम उसका विरोध करेंगे।

गाज़ियाबाद में भी हो ऐसा तजुरबा
पुराने गाज़ियाबाद के चौपला मंदिर से लेकर आरडीसी समेत ऐसे अनेक क्षेत्र हैं जहां दिन-भर गाड़ियों की भरमार रहती है। क्या यह बेहतर नहीं होगा कि जिला प्रशासन गाज़ियाबाद में भी ऐसा तजुरबा कर प्रदूषण का स्तर जाँचे?

व्हाट्सएप के माध्यम से हमारी खबरें प्राप्त करने के लिए यहाँ क्लिक करें।

हमारा न्यूज़ चैनल सबस्क्राइब करने के लिए यहाँ क्लिक करें।
Follow us on Facebook http://facebook.com/HamaraGhaziabad
Follow us on Twitter http://twitter.com/HamaraGhaziabad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *