ताज़ा खबर :
prev next

अरिहंत चेरिटेबल ट्रस्ट ने गाजियाबाद के सरकारी स्कूल में खोले निःशुल्क कंप्यूटर एवं सिलाई प्रशिक्षण केन्द्र

अज्ञानता के घने-घुप्प अंधेरे में विचारों की लालटेन लेकर कोई विरला ही चलता है। और….जो ऐसा दुस्साहसिक कार्य करता है वह युग निर्माता कहलाता है, मार्गदर्शक बनता है। कुछ ऐसा ही काम कर दिखाया है दिल्ली के अरिहंत चेरिटेबल एजुकेशनल ट्रस्ट की संस्थापक अध्यक्ष डॉ. अलका अग्रवाल ने। गाजियाबाद ज़िले के इतिहास में पहली बार डॉ. अलका अग्रवाल ने अपने एक प्रस्ताव से गाजियाबाद नगर निगम को चौंका दिया। डॉ. अलका ने एक प्रस्ताव इस साल 2019 में नगर निगम अधिकारियों को जाकर दिया। प्रस्ताव था कि वह अपने ट्रस्ट की ओर से सरकारी विद्यालयों में गरीब-असहाय लड़कियों को कंप्यूटर व सिलाई-कढ़ाई का निःशुल्क प्रशिक्षण देना चाहती हैं। सरकारी विद्यालयों में उनका ट्रस्ट निःशुल्क प्रशिक्षण केन्द्र खोलने का इच्छुक है।

निःशुल्क कंप्यूटर प्रशिक्षण केन्द्र-

गाजियाबाद नगर निगम ने उनके इस प्रस्ताव को सहर्ष स्वीकार करते हुए चंद्रपुरी गाजियाबाद स्थित एमबी गर्ल्स इंटर कॉलेज में निःशुल्क प्रशिक्षण केन्द्र खोलने की अनुमति प्रदान कर दी। ऐसा गाजियाबाद में पहली बाद हुआ कि किसी ट्रस्ट ने सरकार से बिना आर्थिक सहायता लिये सरकारी विद्यालय में निःशुल्क प्रशिक्षण केन्द्र खोला। एमबी गर्ल्स इंटर कॉलेज की एक इमारत में दो कमरे लेकर और उन्हें सुसज्जित कर प्रशिक्षण कार्य शुरू किया। इसमें 20 कंप्यूटर लगे और एक ट्रेनर नेहा को वेतन पर रखा। नेहा का वेतन भी डॉ. अलका अग्रवाल स्वयं वहन करती हैं। डॉ. अलका अग्रवाल ने बताया कि एक अप्रैल 2019 को निःशुल्क कंप्यूटर प्रशिक्षण केन्द्र खोला गया। इसमें एमबी गल्र्स इंटर कॉलेज की गरीब व असहाय परिवारों की करीब 150 बच्चियां प्रतिदिन प्रशिक्षण ले रही हैं। अभी तक लगभग 400 बच्चियों ने कंप्यूटर प्रशिक्षण लेना शुरू किया है और भविष्य में यह संख्या बढ़ती जाएगी। उन्होंने बताया कि बच्चियों को फिलहाल कंप्यूटर की बेसिक जानकारियां दी जा रही हैं। 4 महीने बाद उन्हें सर्टीफिकेट कोर्स कराये जाएंगे। ये सर्टिफिकेट कोर्स 3 महीने से लेकर 6 महीने तक के होंगे। बच्चियां 12वीं जब पास कर जाएंगीं तो उन्हें नोएडा, दिल्ली व गाजियाबाद की सम्बंधित कंपनियों में नौकरी दिलाने का काम किया जाएगा। बच्चियां चाहें तो इनमें पार्ट टाइम व फुल टाइम नौकरी कर सकेंगी।

निःशुल्क सिलाई प्रशिक्षण केन्द्र-
इसी तरह से गाजियाबाद नगर निगम की मदद से ट्रस्ट ने एक जुलाई 2019 को एक और कमरे में सुधार कार्य करवाया और उसमें निःशुल्क सिलाई प्रशिक्षण केन्द्र खोला है। इसमें 20 सिलाई मशीनें लगाई गई हैं। लक्ष्मी नाम की ट्रेनर लड़कियों को निःशुल्क प्रशिक्षण प्रदान कर रही हैं। लक्ष्मी का मासिक वेतन भी ट्रस्ट ही वहन कर रहा है। इसमें कैंची, कपड़ा, धागा आदि मैटीरियल भी स्कूली छात्राओं को निःशुल्क ट्रस्ट ही मुहैया करवा रहा है। डॉ. अलका अग्रवाल ने बताया कि अभी एक सरकारी विद्यालय में ही दो प्रशिक्षण केन्द्र एकदम निःशुल्क शुरू किये गये हैं। इन दोनों का विधिवत उद्घाटन गत 17 अगस्त 2019 को नगर निगम की महापौर आशा शर्मा ने अपने कर कमलों से किया।

ट्रस्ट की भावी योजना-

उनकी योजना अन्य सरकारी स्कूलों में खासतौर से बच्चियों को व्यवसायिक तौर पर प्रशिक्षित करने और उन्हें स्वावलम्बी बनाने की है। इसलिए वह अपने ट्रस्ट के माध्यम से गाजियाबाद के अन्य सरकारी स्कूलों में निःशुल्क कंप्यूटर एवं सिलाई प्रशिक्षण केन्द्र खोलेंगीं। उन्होंने बताया कि शुरू से ही उनके मन में इच्छा लड़कियों को पढ़ाने, उन्हें स्वावलम्बी बनाने और उनको समाज की मुख्यधारा से जोड़ने की रही है। हालांकि उनकी सोच को साकार होने में थोड़ा समय तो लगा लेकिन नगर निगम की वजह से उनके सोच को साकार होने का अवसर तो मिला ही, उड़ान भरने के लिए नये पंख भी मिले। उन्हें विश्वास है कि लोग उनकी भावनाओं को समझेंगे।

व्हाट्सएप के माध्यम से हमारी खबरें प्राप्त करने के लिए यहाँ क्लिक करें।

हमारा न्यूज़ चैनल सबस्क्राइब करने के लिए यहाँ क्लिक करें।
Follow us on Facebook http://facebook.com/HamaraGhaziabad
Follow us on Twitter http://twitter.com/HamaraGhaziabad

#incredibleINDIA, #BreakingNews, #Ghaziabad, #HamaraGhaziabad, #PetrolPrice, #MarketNews, #HindiNews, #UPNews, #ChandraYaaan2

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *