ताज़ा खबर :
prev next

भारतीय सेना ने शहीदों के घर का हाल जानने के लिए भेजे सैनिक, स्कूलों में बच्चों से की बातचीत

नई दिल्ली। भारतीय सेना ने शहीद होने वाले सैनिकों की पत्नियां (वीर नारी) और घरवाले किस हाल में रह रहे हैं। उनकी समस्याएं क्या हैं, उन्हें योजनाओं का समुचित लाभ मिल रहा है या नहीं, इन सभी सवालों का जवाब तलाशने के लिए साइकिल अभियान चलाया। शहीद सैनिकों व शारीरिक रूप से अक्षम हुए जवानों के परिवार का दुख-दर्द जानने के लिए तीन सितंबर से 15 सितंबर तक चले अभियान के दौरान सैनिकों की टीम ने कुल 927 किलोमीटर की यात्रा की। इस दौरान शहीदों के परिवार वालों से भेंट कर उनकी समस्याओं को नोट किया और उन्हें तमाम योजनाओं की जानकारी देकर लाभ उठाने की अपील की। टीम ने स्कूलों में जाकर बच्चों से बातचीत कर उन्हें सेना के बारे में जानकारी दी।

सेना की ओर से यह पहल बैटल एक्स डिविजन के सैनिकों की टीम ने की। शहीदों की पत्नियों और उनके नजदीकी परिवार वालों तक पहुंचकर सैनिकों ने संवाद किया। 927 किलोमीटर लंबे इस अभियान में मारवाड़ क्षेत्र के अजमेर, भीलवाड़ा, पाली, जोधपुर और जैसलमेर जिलों के सुदूर क्षेत्रों की यात्रा की गई। अभियान दल ने वीर नारियों और युद्ध में शहीद व शारीरिक रूप से अक्षम सैनिकों के निकटतम परिजनों को उनके लिए संचालित विभिन्न योजनाओं की जानकारी दी।

अभियान दल ने शाहपुरा, भीलवाड़ा में 65 पूर्व सैनिकों, 12 वीर नारियों, धोसाला, बीवर में 22 पूर्व सैनिकों तथा 14 शहीदों के निकटतम परिजनों, पाली में 12 शहीदों के निकटतम परिजनों तथा 32 पूर्व सैनिकों और जैसलमेर में 52 पूर्व सैनिकों की समस्याओं का समाधान भी किया। अभियान दल ने भीलवाड़ा, पाली, सोजात, डांगीयावास तथा चेराई में स्कूली बच्चों और स्थानीय युवाओं से भी बातचीत की।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *