ताज़ा खबर :
prev next

2015 में दिए भड़काऊ भाषण की वजह से हुई कमलेश की हत्या: डीजीपी ओपी सिंह

लखनऊ। कमलेश तिवारी हत्याकांड के बाद यूपी की सियासत में हलचल मची हुई है। विपक्षी पार्टी जहां बीजेपी सरकार पर सुरक्षा व्यवस्था पर सवाल उठा रहे हैं। वहीं, पीड़ित परिवार ने भी इस हत्याकांड के लिए सरकार और प्रशासन को जिम्मेदार ठहराया है। हत्याकांड के बाद से यूपी पुलिस लगातार मामले की जांच में जुटी हुई है। इस मामले में पुलिस सीसीटीवी फुटैज और कई अहम सुरागों को आधार बनाकर जांच कर रही है।

यूपी डीजीपी ओम प्रकाश सिंह लखनऊ में प्रेस कांफ्रेंस कर रहे हैं। यह प्रेस कॉन्फ्रेंस पुलिस मुख्यालय (सिग्नेचर बिल्डिंग), गोमती नगर विस्तार के मीडिया ब्रीफिंग हॉल में हो रही है। डीजीपी ओपी सिंह ने बताया कि उनकी टीम ने 24 घंटे के अंदर कमलेश तिवारी हत्याकांड का पर्दापाश कर दिया है। डीजीपी ओम प्रकाश ने कहा कि हमें इस बात का शक था कि इस घटना के तार गुजरात से जुड़े हैं। इसलिए कार्रवाई करते हुए सूरत से तीन संदिग्धों को हिरासत में लिया गया है। उन्होंने बताया कि इन की तीनों के अलावा कुछ और लोगों को हिरासत में लिया गया था, लेकिन पूछताछ के बाद उन्हें छोड़ दिया गया है।

डीजीपी ने बताया कि हत्याकांड के षड़यंत्र में शामिल मौलाना अनवारुल हक और मौलाना नईम कासनी शामिल हो सकते हैं। सूरत के मौलाना मोसिन सलीम शेख, फैजान जिलानी और रशीद को गिरफ्तार किया है। रशीद को कंप्यूटर का ज्ञान है और दर्जी का काम करता है। वहीं, फैजान मिठाई खरीदने वालों में शामिल है। एफआईआर में दर्ज दो षड्यंत्रकारी जिनके नाम मौलाना अनवारुल हक और मौलाना नईम कासनी हैं। रशीद ने शुरुआती प्लान बनाया था और उसी को मौलाना सलीम शेख ने उकसाने का काम किया। डीजीपी ने बताया कि 2015 में कमलेश ने कुछ आपत्तिजनक बयान दिया था, जिसके बाद मौलाना ने रशीद को उकसाया और उसके बाद ही इन्होंने ये साजिश रची।

डीजीपी ने कहा कि प्रारंभिक विवेचना से स्पष्ट है कि तीनों इस हत्याकांड में शामिल रहे हैं और अन्य मुख्य अभियुक्त भी हैं, जिनकी गिरफ्तारी की तैयारी कर रहे हैं। एडीजी लखनऊ जोन से और टीम को सूरत भेज सकते हैं और जरूरत पड़ने पर उन्हें लखनऊ लाकर पूछताछ करेंगे।

आपको बता दें कि हिंदू समाज पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष कमलेश तिवारी हत्याकांड में बिजनौर के दो मौलाना, मुरादाबाद से 5 और गुजरात के सूरत से 3 संदिग्धों को गिरफ्तार किया गया है।

हमारा न्यूज़ चैनल सबस्क्राइब करने के लिए यहाँ क्लिक करें।
Follow us on Facebook http://facebook.com/HamaraGhaziabad
Follow us on Twitter http://twitter.com/HamaraGhaziabad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *