ताज़ा खबर :
prev next

सूर्य के प्रति श्रद्धा का पर्व है छठ, जानें इस त्योहार से जुड़ी कुछ खास बातें

गाज़ियाबाद। छठ पूजा एक प्राचीन पर्व है, जिसे दिवाली के बाद छठे दिन मनाया जाता है। छठ पूजा को सूर्य छठ या डाला छठ के नाम से भी संबोधित करते हैं। बिहार, झारखंड, पूर्वी उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ समेत देश के विभिन्न महानगरों में हम छठ मनाते हैं। वैसे तो लोग उगते हुए सूर्य को प्रणाम करते हैं, लेकिन छठ पूजा एक ऐसा अनोखा पर्व है, जिसकी शुरुआत डूबते हुए सूर्य की आराधना से होती है। ‘छठ’ शब्द ‘षष्ठी’ से बना है, जिसका अर्थ ‘छह’ है, इसलिए यह त्योहार चंद्रमा के आरोही चरण के छठे दिन, कार्तिक महीने के शुक्ल पक्ष पर मनाया जाता है। कार्तिक महीने की चतुर्थी से शुरू होकर सप्तमी तक मनाया जाने वाला ये त्योहार चार दिनों तक चलता है। मुख्य पूजा कार्तिक माह के शुक्ल पक्ष के छठे दिन की जाती है।

इसका रहस्य समझते हैं। इस त्योहार में भगवान सूर्य को अर्घ्य देते हैं। इसका अर्थ क्या है? यहां जल देने से सूर्य के पास पहुंच जाएगा? नहीं। इसका दार्शनिक अर्थ है-जीवन और पृथ्वी का आधार सूर्य ही हैं। यह सूर्य को आभार व्यक्त करने की परम्परा है। पहले प्रतिनित्य सूर्य को अर्घ्य देकर सभी पूजा शुरू की जाती थी।

छठ में जल में खड़े होकर सूर्य को अर्घ्य दिया जाता है। जल या आप: (संस्कृत) का एक अर्थ प्रेम भी है। जल प्रेम का प्रतीक भी है। ‘आप्त’ एक शब्द है, जो ‘आप:’ से बना है। आप्त का अर्थ है, ‘जो बहुत प्रिय हो।’ इसका त्योहार का उद्देश्य सूर्य से अपनेपन और निकटता को महसूस करना है। सूर्य को जल अर्पित करने का अर्थ है कि हम संपूर्ण हृदय से आपके (सूर्य के) आभारी हैं और यह भावना प्रेम से उत्पन्न हुई है।

इसमें दूध से भी अर्घ्य देते हैं। दूध पवित्रता का प्रतीक है। दूध को पानी के साथ अर्पित किया जाना इस बात को दर्शाता है कि हमारा मन और हृदय दोनों पवित्र बने रहें। सूर्य इस ग्रह पर सभी आहार का स्रोत है। यह सूर्य ही है, जिसके कारण ऋतुएं और वर्षा आती है। सूर्य इस ग्रह पर जीवन का निर्वाहक हैं। सूर्य के प्रति कृतज्ञता की गहन भावना के साथ प्रसाद बनाया जाता है। सब्जियों, मिठाइयों और विभिन्न खाद्य पदार्थों को सूर्य को यह कहते हुए अर्पित किया जाता है कि ‘यह सब आपका है, यहां मेरा कुछ भी नहीं है।’

सूर्यास्त और सूर्योदय के समय पूरा परिवार सूर्य को अर्घ्य देने के लिए पानी में उतरता है। जल हथेलियों में रखा जाता है और सूरज को देखते हुए, जल को धीरे-धीरे अर्पित किया जाता है। सुबह और शाम के समय सूर्य को देखने का महत्व पूरे विश्व में बताया गया है और विज्ञान यह मानता है कि यह शरीर में विटामिन डी उत्पन्न करने के लिए सूर्य आवश्यक हैं। सुबह और शाम के समय सूर्य का अवलोकन करने से शरीर में सूर्य की ऊर्जा अवशोषित करने में मदद मिलती है। यह बुद्धि को तीक्ष्ण और सबल करता है। कुछ ऐसे भी हैं, जो बिना खाना खाए भी अपनी पूरी जिंदगी सूर्य की ऊर्जा पर टिके रहते हैं।

हमारा न्यूज़ चैनल सबस्क्राइब करने के लिए यहाँ क्लिक करें।
Follow us on Facebook http://facebook.com/HamaraGhaziabad
Follow us on Twitter http://twitter.com/HamaraGhaziabad

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *