ताज़ा खबर :
prev next

एमनेस्टी ने फ़ेसबुक और गूगल को बताया मानवाधिकार के लिए ख़तरा

नई दिल्ली। मानवाधिकारों के लिए काम करने वाले अंतरराष्ट्रीय संगठन एमनेस्टी इंटरनेशनल ने गूगल और फेसबुक के बिजनेस मॉडल को मानवधिकारों के लिए खतरा बताया है। एमनेस्टी ने एक रिपोर्ट जारी की है जिसमें इन टेक कंपनियों द्वारा की जाने वाली ‘व्यापक निगरानी’ को लेकर चिंता जताई गई है। मानवाधिकार संगठन ने दावा किया है कि इनके प्लेटफॉर्म बड़े पैमाने पर ‘मानवाधिकारों को नुकसान पहुंचाने वाले हालात पैदा कर रहे हैं।’

फेसबुक ने इस रिपोर्ट से असहमति जताई है। कंपनी का कहना है कि वह मानविधाकारों को सशक्त कर रही है। वहीं गूगल का कहना है कि उसे लोगों के भरोसे की कद्र है और यूजर्स के डाटा की सुरक्षा की जिम्मेदारी का भी अहसास है। रिपोर्ट में कहा गया है कि गूगल पूरी दुनिया में 90 फीसदी से अधिक इस्तेमाल होने वाला सर्ज इंजन है और दुनिया की एक-तिहाई आबादी हर रोज फेसबुक इस्तेमाल करती है। एमनेस्टी के महासचिव कूम नायडू के मुताबिक़, “अरबों लोगों के पास फेसबुक और गूगल की निर्धारित शर्तों वाले इस पब्लिक स्पेस को इस्तेमाल करने के अलावा और कोई व्यावहारिक विकल्प नहीं है।”

क्या कहना है एमनेस्टी का
58 पन्नों की एक रिपोर्ट में एमनेस्टी ने गूगल और फेसबुक के बिजनेस मॉडल को “अरबों लोगों की विश्वव्यापी निगरानी” बताया है। मानवाधिकार संगठन ने यह भी कहा है कि इन टेक कंपनियों के आधारभूत बिजनेस मॉडल में ‘मौलिक बदलाव’ लाए जाने की जरूरत है। एमनेस्टी का कहना है कि फेसबुक और गूगल भले ही अपनी सेवाओं के बदले कोई फ़ीस नहीं लेतीं मगर उपभोक्ताओं को अपने पर्सनल डाटा के रूप में इसकी कीमत चुकानी पड़ती है।

इसके लिए रिपोर्ट में कैम्ब्रिज एनालिटिका प्रकरण का उदाहरण दिया गया है और इसे इस बात के सबूत के तौर पर पेश किया गया है कि किस तरह से यूजर्स के पर्सनल डाटा को उनके खिलाफ इस्तेमाल किया जा सकता है। एमनेस्टी ने सरकारों से अपील की है उन्हें डाटा की सुरक्षा संबंधित कानून बनाकर और बड़ी टेक कंपनियों का प्रभावी ढंग से नियम करके इनके ‘सर्विलांस आधारित बिजनेस मॉडल’ की पड़ताल करके सुधार करने चाहिए।

फेसबुक और गूगल ने क्या कहा
एमनेस्टी के दावों पर फेसबुक का कहना है कि उसका बिजनेस मॉडल विज्ञापनों पर आधारित है और वह लोगों को अपनी आवाज़ उठाने और एकजुट होने का मौक़ा देकर मानवाधिकारों को बढ़ावा देता है। रिपोर्ट में ही फेसबुक के प्राइवेसी एंड पब्लिक पॉलिसी के डायरेक्टर स्टीव सैटरफील्ड का पक्ष भी छापा गया है। इसमें सैटरफील्ड ने 10 बिंदुओं में अपनी बात कही है। वह कहते हैं, “हम पूरे सम्मान के साथ आपके इस निष्कर्ष से असहमत हैं कि हमारा काम मानवाधिकार के सिद्धांतों के अनुरूप नहीं है।”

इसके अलावा टेक्नॉलजी कवर करने वाली वेबसाइट एनगैजट के मुताबिक, फेसबुक के प्रवक्ता ने कहा है, “हम एमनेस्टी इंटरनेशनल की रिपोर्ट से अहसमत हैं। फेसबुक निजता की रक्षा करते हुए पूरी दुनिया के लोगों को जोड़ती है। कम विकसित देशों में फ़्री बेसिक्स जैसे टूल्स के माध्यम से यह किया जा रहा है। हमारा बिज़नेस मॉडल एमनेस्टी इंटरनैशनल की तरह फेसबुक पर विज्ञापन चलाकर अपने समर्थकों तक पहुंचने, चंदा इकट्ठा करने हैं और अपने मिशन को आगे बढ़ाने वाले समूह हैं।”

उधर गूगल का कहना है कि वह अपने यूजर्स की निजता की रक्षा करता है और इस दिशा में और भी काम कर रहा है। टेक पोर्टल ‘द वर्ज’ ने गूगल के प्रवक्ता से ईमेल के माध्यम से मिला जवाब प्रकाशित किया है। इसमें लिखा गया है, “हम जानते हैं कि लोग अपनी सूचनाओं को लेकर हमपर भरोसा करते हैं और इसकी रक्षा करना हमारी जिम्मेदारी है। पिछले 18 महीनों में हमने काफी अहम बदलाव किए हैं और ऐसे टूल बनाए हैं जिससे लोग अपनी सूचनाओं पर नियंत्रण हासिल कर सकें।”

हमारा न्यूज़ चैनल सबस्क्राइब करने के लिए यहाँ क्लिक करें।
Follow us on Facebook http://facebook.com/HamaraGhaziabad
Follow us on Twitter http://twitter.com/HamaraGhaziabad

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *